छिंदवाड़ा की रैली में कमलनाथ ने चलाया ट्रैक्टर, कृषि क़ानूनों को बताया किसान विरोधी

Chhindwara: कांग्रेस की किसान अधिकार रैली में पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा, मोदी सरकार के नए क़ानूनों से किसानों को नहीं उद्योगपतियों को होगा फायदा

Updated: Jan 15, 2021, 05:14 PM IST

छिंदवाड़ा की रैली में कमलनाथ ने चलाया ट्रैक्टर, कृषि क़ानूनों को बताया किसान विरोधी
Photo Courtesy: twitter

छिंदवाड़ा। मध्यप्रदेश में किसानों के समर्थन में ट्रैक्टर रैलियां की जा रही हैं। छिंदवाड़ा में कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमल नाथ और सांसद नकुल नाथ भी ट्रैक्टर रैली में शामिल हुए। कमलनाथ ने रैली के दौरान चौरई तक खुद ट्रैक्टर भी चलाया। इस दौरान उन्होंने कृषि कानूनों को लेकर बीजेपी सरकारों पर जमकर निशाना साधा।

और पढ़ें: सिंगरौली में कृषि कानूनों के विरुद्ध कांग्रेस का प्रदर्शन, किसान सम्मेलन के लिए छिंदवाड़ा पहुंचे कमलनाथ

पीसीसी चीफ कमलनाथ ने कहा कि भारत किसानों का देश है, यहां का एक बड़ा वर्ग खेती किसानी करके अपनी रोजी-रोटी चलाता है। आज दिल्ली बॉर्डर पर देश का किसान अपने हक की लड़ाई लड़ रहा है, उन्हीं के समर्थन में मध्य प्रदेश में इस आंदोलन की शुरुआत की जा रही है। उन्होंने तीनों कृषि कानूनों को मौत का पैगाम बताया है। और कहा कि कांग्रेस हर हाल में किसानों के साथ कंधे से कंधा मिलकार खड़ी है, जल्द ही किसान आंदोलन का सार्थक परिणाम देखने को मिलेगा।

और पढ़ें: Congress Tractor Rally: सीहोर के बकतरा में कांग्रेस की ट्रैक्टर रैली, कृषि कानून के खिलाफ ज़ोरदार प्रदर्शन

गौरतलब है कि मध्यप्रदेश कांग्रेस आज 15 जनवरी को कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदेशभर में चक्काजाम कर प्रदर्शन रही है। पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने भी बुदनी के बकतरा में प्रदर्शन में हिस्सा लिया। कांग्रेस शनिवार 16 जनवरी को छिंदवाड़ा और 20 जनवरी को मुरैना में किसान सम्मेलन का आयोजन करने वाली है। वहीं 23 जनवरी को किसानों की अगुवाई में राजभवन का घेराव किया जाएगा।

कांग्रेस का आरोप है कि कृषि कानून की वजह से मध्यप्रदेश के किसानों को सबसे ज्यादा नुक़सान होगा, क्योंकि अभी प्रदेश में केवल बीस प्रतिशत किसानों को एमएसपी का लाभ मिल पाता है। जबकि नए क़ानून की वजह से आने वाले दिनों में किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य मिलने की संभावना भी खत्म हो जाएगी।