महापौर चुनाव: BJP में टिकट के लिए घमासान, आधी रात तक चली कोर ग्रुप की बैठक, खत्म नहीं हुआ विवाद

बैठक में ज्योतिरादित्य सिंधिया के पहुंचते थे नरेंद्र सिंह तोमर, नरोत्तम मिश्रा और जयभान सिंह पवैया उठकर चले गए, रविवार को फिर से होगी बैठक, खेमेबाजी के कारण नहीं हो पा रहा है निर्णय

Updated: Jun 12, 2022, 11:01 AM IST

महापौर चुनाव: BJP में टिकट के लिए घमासान, आधी रात तक चली कोर ग्रुप की बैठक, खत्म नहीं हुआ विवाद

भोपाल। मध्य प्रदेश बीजेपी अबतक 16 नगर निगमों के महापौर प्रत्याशी का चयन नहीं कर पाई है। उम्मीदवारों की घोषणा में देरी का मुख्य वजह पार्टी के भीतर व्याप्त खेमेबाजी को माना जा रहा है। शनिवार आधी रात तक भोपाल स्थित पार्टी मुख्यालय में कोर ग्रुप की बैठक हुई। लेकिन कई घंटों तक चली इस बैठक के बाद भी सहमति नहीं बन पाई। 

भोपाल स्थित पार्टी मुख्यालय में आयोजित बैठक में भी गुटबाजी खुलकर सामने आ गया। दरअसल, सिंधिया इस बैठक में शामिल होने काफी देर से पहुंचे थे। करीब साढ़े 10 बजे सिंधिया जैसे ही बैठक में पहुंचे की नरेंद्र सिंह तोमर, नरोत्तम मिश्रा और जयभान सिंह पवैया उठकर बाहर आ गए। उधर फग्गन सिंह कुलस्ते भी थोड़ी देर बाद चले गए। ऐसे में सीएम चौहान, प्रदेशाध्यक्ष वीडी शर्मा और शिवप्रकाश के साथ सिंधिया ने चर्चा की।

यह भी पढ़ें: UP में रची गई थी रांची में हिंसा फैलाने की साजिश, युवाओं को भड़काने के लिए पहुंची थी 12 लोगों की टीम

रिपोर्ट्स के मुताबिक भोपाल, इंदौर और ग्वालियर में सबसे बड़ा पेंच फंसा हुआ है। ग्वालियर सीट पर केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीच सहमति नहीं बन पा रही है। दोनों नेताओं के समर्थक भी एक दूसरे के धुर विरोधी हैं। ऐसे में ग्वालियर को दोनों नेता "नाक के सवाल" के तौर पर ले रहे हैं। इंदौर में भी आपसी खींचतान की वजह से सहमति नहीं बन पा रही है। यहां कैलाश विजयवर्गीय और सुमित्रा महाजन के बीच वर्चस्व की लड़ाई है।

भोपाल में पार्टी को कृष्णा गौर के अलावा कोई उम्मीदवार नहीं दिख रहा है जो विभा पटेल को चुनौती दे सके। हालांकि, कृष्णा गौर क्राइटेरिया में फिट नहीं बैठती हैं। शीर्ष नेतृत्व ने प्रावधान बनाया है कि विधायकों और हारे हुए उम्मीदवारों को टिकट नहीं दिया जाएगा। प्रदेश नेतृत्व भोपाल के मामले में केंद्र से बात कर सकता है कि विधायक के क्राइटेरिये को भोपाल के लिए शिथिल किया जाए। हालांकि, यदि भोपाल से कृष्णा गौर के लिए पार्टी नियम से समझौता करती है तो इंदौर में विधायक रमेश मेंदोला भी अपना दावा करेंगे।

रिपोर्ट्स के मुताबिक रविवार तक सर्फ पांच निगमों का टिकट फाइनल हुआ है। सतना से भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष योगेश ताम्रकार, उज्जैन से अनुसूचित जाति मोर्चा के प्रदेश उपाध्यक्ष मुकेश टटवाल, रतलाम से अशोक पोरवाल, छिंदवाड़ा से जितेंद्र शाह और बुरहानपुर से माधुरी पटेल का नाम तय किया गया है।