ग्वालियर बाढ़ पीड़ितों के लिए सीएम शिवराज ने किया मुआवजे का ऐलान, घर, पशु, फसल का सर्वे कर भरपाई का वादा

ग्वालियर बाढ़ पीड़ितों के घाव पर सरकार ने लगाया मुआवजे का मलहम, बेघर हुए लोगों के घर के लिए 1 लाख 30 हजार, तो भैंसों की मौत पर 30 हजार की दर से मिलेगा मुआवजा, बिना कार्ड वालों को भी 50 किलो फ्री अनाज का वादा

Updated: Aug 05, 2021, 07:07 PM IST

ग्वालियर बाढ़ पीड़ितों के लिए सीएम शिवराज ने किया मुआवजे का ऐलान, घर, पशु, फसल का सर्वे कर भरपाई का वादा
Photo Courtesy: twitter

ग्वालियर। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने ग्वालियर बाढ़ प्रभावित इलाकों की जायजा लिया। इस दौरान उन्होंने कई इलाकों में बाढ़ पीड़ितों से मुलाकात की। मुख्यमंत्री ने आश्वासन दिया है कि बाढ़ में हुए नुकसान का सर्वे होगा। उन्होंने कहा कि इस सर्वे में कोई छूटने न पाये, सभी के घर, फसल, पशुओं और अन्य सामान के नुकसान की भरपाई का व्यवस्था सुनिश्चित की जायेगी।

मुख्यमंत्री ने घोषणा की है कि जिन पशुपालकों के भैंसे बह गई हैं उन्हें 30 हजार रु, बकरी, बछड़े के लिए 10 हजार रु, मुर्गे- मुर्गी के बह जाने पर 60 रुपए की दर से मुआवजा दिया जाएगा।  वहीं सरकार 1.30 लाख रुपए की लागत से घर बनवाकर देगी। वहीं लोगों को जल्द से जल्द अनाज वितरित किया जाएगा। यह 50 किलो अनाज बिना राशन कार्ड वालों को बांटा जाएगा।

 

दरअसल मध्यप्रदेश में मानसून ने ग्वालियर-चंबल संभाग ने तबाही मचा रखी है। दतिया, भिंड, गुना, श्योपुर, शिवपुरी जिलों में बारिश का रौद्र रूप लोगों के जान-माल के नुकसान की वजह बन गया है। ग्वालियर, गुना, दतिया, शिवपुरी, श्योपुर में मूसलधार बारिश की वजह से बाढ़ आ गई है। इलाके की सिंध, पार्वती, कुनो नदियां और असंख्य नाले उफान पर है। हजारों लोग बाढ़ में फंसे हुए हैं। जिनका रेस्क्यू जारी है।

अगले तीन दिन भारी बारिश की चेतावनी

इस बीच मौसम विभाग ने अगले 24 घंटों के लिए ग्वालियर चंबल संभाग के सभी जिलों में भारी बारिश के लिए आरेंज अलर्ट जारी किया है। गुना, राजगढ़, शाजापुर, अशोकनगर, मंदसौर, दतिया, विदिशा रायसेन, सीहोर, होशंगाबांद, धार देवास, टीकमगढ़, निवाड़ी, सागर के लिए यलो अलर्ट जारी किया है। इन इलाकों में 64.5 मिमी से 111.5 मिमी तक बारिश होने की आशंका है। वहीं रीवा, जबलपुर, सागर, शहडोल, इंदौर में कहीं कहीं तेज तो कही मध्यम वर्षा होने का अनुमान है। भोपाल, उज्जैन, होशंगाबाद में गरज चमक के साथ वर्षा होने की आशंका है।

और पढें: बारिश में पत्तों की तरह बह गए शिवराज सरकार में बने 4 पुल, 3 हजार करोड़ से ज्यादा थी लागत

मौसम विभाग का कहना है कि इनदिनों प्रदेश में एक साथ 4 सिस्टम एक्टिव है, जिसकी वजह से पर्याप्त वर्षा हो रही है। बंगाल की खाड़ी में बना सिस्टम प्रदेश के पूर्वी हिस्से में एक्टिव है, जो की आगे नहीं बढ़ रहा। यह सिस्टम मध्यप्रदेश औऱ उत्तरप्रदेश के कई जिलों में 8 अगस्त तक बने रहने के संकेत हैं। यही वजह है कि आगामी 24 घंटों में गुना, अशोक नगर में भारी से अति भारी वर्षा हो सकती है। वहीं प्रदेश के 20 जिलों में भारी बारिश की संभावना जताई गई है।   

और पढें: कांग्रेस की वजह से आई MP में बाढ़, BJP MLA का बेतुका बयान, कांग्रेस बोली- मानसिक विक्षिप्तता की स्पर्धा चल रही है

जुलाई के तीन सप्ताह सूखे निकलने के बाद अब प्रदेश में अच्छी बारिश का दौर शुरू हुआ था। यही वजह है कि 23 प्रतिशत कम बारिश का आंकड़ा 11 प्रतिशत ज्यादा वर्षा तक पहुंच गया है। एक जून से 5 अगस्त तक प्रदेश के विभिन्न हिस्सों में 547.4 मिमी वर्षा हो चुकी है। जबकि अब तक यहां 491.6 मिमी वर्षा का रिकॉर्ड रहा है।

और पढें: नरोत्तम मिश्रा बने खतरों के खिलाड़ी, रेस्क्यू ऑपरेशन को बनाया एडवेंचर ट्रिप, वीडियो वायरल

पश्चिमी मध्यप्रदेश के सीधी, सिंगरौली टीकमगढ़ जिलो में औसत से कई गुना ज्यादा  बारिश हो चुकी है। श्योपुर में 159%, शिवपुरी में 132% गुना में 112%, सिंगरौली में 79%, ग्वालियर में 30%, भिंड में 65%, अशोक नगर में 61% एक्सेस रेन दर्ज की जा चुकी है।

और पढें: बारिश में किसान सम्मान यात्रा पर निकले जयवर्धन सिंह, मुआवजे की मांग को लेकर 35 किमी की पैदल यात्रा

बीते 24 घंटों में सबसे ज्यादा वर्षा गुना में दर्ज की गई है, यहां 52.2 मिमी पानी गिरा है। वहीं सागर 33.2 मिमी, रायसेन 27.0 मिमी, दमोह 21.0 मिमी, भोपाल 17.6 मिमी, भोपाल शहर 16.9 मिमी, उज्जैन 16.0 मिमी, होशंगाबाद 13.8 मिमी, शाजापुर 13.0 मिमी, पचमढ़ी 11.0 मिमी, ग्वालियर 10.2 मिमी, इंदौर 9.2 मिमी, टीकमगढ़ 7.0 मिमी, मंडला 5.5 मिमी, दतिया 4.6 मिमी, नरसिंहपुर 4.0 मिमी, खरगोन 3.2 मिमी, रीवा 3.2 मिमी, खंडवा 3.0 मिमी, नौगांव 3.0 मिमी, जबलपुर 2.7 मिमी, बैतूल 2.2 मिमी, रतलाम 2.0 मिमी, उमरिया 1.8 मिमी, खजुराहो 1.4 मिमी, मलंजखंड 1.2 मिमी, धार 1.2 मिमी, छिंदवाड़ा 1.0 मिमी बरसात हुई है।