इंदौर के लिए कांग्रेस का घोषणापत्र जारी, कोरोना में जान गंवाने वालों के परिजनों को 20 हजार नकद देने का वादा

घरों में निशुल्क स्वच्छ जल पहुंचाना, पानी के संकट के समाधान की योजना, सड़कों का निर्माण, इंदौर विकास योजना 2035, कर्मचारियों को स्थाई करना, पीली गैंग के आतंक से मुक्ति, महापौर पेंशन योजना समेत कई लुभावने वादे

Updated: Jun 30, 2022, 03:33 PM IST

इंदौर के लिए कांग्रेस का घोषणापत्र जारी, कोरोना में जान गंवाने वालों के परिजनों को 20 हजार नकद देने का वादा

इंदौर। मध्य प्रदेश के इंदौर में नगर निगम चुनाव के लिए प्रचार प्रसार जोरों पर है। इंदौर से कांग्रेस के महापौर प्रत्याशी संजय शुक्ला गुरुवार ने अपना वचन एवं दृष्टि पत्र जारी कर दिया है। इसमें इंदौर की जनता से कई सारे विकास के वादे किए गए हैं। वचन पत्र में मुख्य रूप से कोरोना काल में जान गंवाने वाले लोगों के परिजनों को 20 हजार रुपए नकद देने का ऐलान किया गया है।

कांग्रेस के इस वचन एवं दृष्टि पत्र को जारी करने के लिए आयोजित प्रेस वार्ता में पूर्व मंत्री और विधायक सज्जन सिंह वर्मा, विजयलक्ष्मी साधो, कांग्रेस के महापौर प्रत्याशी संजय शुक्ला और शहर अध्यक्ष विनय बाकलीवाल समेत तमाम पदाधिकारी और कार्यकर्ता मौजूद रहे। वचनपत्र जारी करने के दौरान जारी करने के दौरान संजय शुक्ला ने यह घोषणा कर दी की अगर वह जीते तो अपनी ओर से शहर में पांच ओवर ब्रिज बनवाएंगे। जिसमें ना ही नगर निगम, न हीं राज्य सरकार से कोई राशि ली जाएगी।

वचन पत्र की मुख्य बातें

कांग्रेस की ओर से जारी किए गए वचन एवं दृष्टि पत्र में जनता से विभिन्न वादे किए गए हैं, जिसमें मुख्य रुप से घरों में निशुल्क स्वच्छ जल पहुंचाना, पानी के संकट के समाधान की योजना, सड़कों का निर्माण, इंदौर विकास योजना 2035, कर्मचारियों को स्थाई करना, पीली गैंग के आतंक से मुक्ति, बेरोजगारों के लिए बाजार, महापौर पेंशन योजना, शहर में 50 फूड जोन, हर वार्ड में स्वास्थ्य केंद्र साथ ही सुगम यातायात के लिए फ्लाईओवर ब्रिज निर्माण करने जैसी योजनाएं महत्वपूर्ण हैं।

पार्टी की ओर से जारी वचन पत्र में जन्म मृत्यु प्रमाण पत्र निशुल्क 7 दिनों में घर पर भिजवाने, स्थानीय जल स्तोत्र जैसे तालाब बावड़ी का जीर्णोद्धार, चलित ठेला व्यवसाय करने वालों के लिए प्रत्येक जोन से लाइसेंस देकर अस्थाई ठेला खड़ा करने का स्थान, महापौर द्वारा हर दिन एक निश्चित समय पर नगर निगम मुख्यालय में बैठकर जनता की शिकायतों की सुनवाई करने और साथ ही शहर में लगने वाले हाट बाजारों को व्यवस्थित करने का वादा भी शहर की जनता से की गई है।