ग्वालियर सेंट्रल जेल में नशे का कारोबार, कैदियों के पास से चरस, गांजा, सिगरेट और तंबाकू बरामद, दो प्रहरी निलंबित

अधिकारियों ने चेकिंग के दौरान कैदियों के पास से भारी मात्रा में चरस, गांजा, बीड़ी, सिगरेट और तंबाकू बरामद किया गया है, जेल अधीक्षक ने दो जेल प्रहरियों को निलंबित कर दिया है

Updated: Jun 24, 2022, 02:33 PM IST

ग्वालियर सेंट्रल जेल में नशे का कारोबार, कैदियों के पास से चरस, गांजा, सिगरेट और तंबाकू बरामद, दो प्रहरी निलंबित

ग्वालियर। ग्वालियर सेंट्रल जेल में बड़े स्तर पर नशे के कारोबार का खुलासा हुआ है। जेल के भीतर कैदियों के पास से चरस, गांजा, बीड़ी, सिगरेट और तंबाकू जैसे नशीले पदार्थ बरामद हुए हैं। पूछताछ में पता चला कि जेल प्रहरी स्वयं कैदियों को नशीले पदार्थ सप्लाई करते थे। जेल अधीक्षक ने मामले में दो प्रहरियों को सस्पेंड कर दिया है।

जानकारी के मुताबिक काफी समय से केंद्रीय जेल ग्वालियर में नशीले पदार्थ बांटने और नशे का कारोबार चलाने की सूचना मिल रही थी। जेल अधीक्षक विदित सरवैया को गुप्त सूचना मिली थी कि रात में जेल दीवार के पास नशे के समान फेंके जाते हैं। इस सूचना की तस्दीक के लिए बुधवार रात जेल में दीवार के पास चेकिंग की गई। 

इस दौरान कैदी इकबाल नशे के सामान को बोरी में समेटता पकड़ा गया। कैदी को पकड़कर जब पूछताछ की गई तब उसने दो प्रहरियों दिनेश यादव व मनोज राजौरिया के नाम लिए। इसके बाद इन प्रहरियों की भी तलाशी ली गई तब दिनेश के पास 7900 रुपए व मनोज के जूतों में 350 ग्राम गांजा व बीड़ी मिली।  कैदी के पास सामान से भरी बोरी भी बरामद कर ली गई है।

प्रशासन के औचक निरीक्षण के कारण जेल में हड़कंप मच गया। अधिकारियों ने जेल के भीतर चेकिंग के दौरान कैदियों के पास से भारी मात्रा में चरस, गांजा, बीड़ी, सिगरेट और तंबाकू बरामद किया गया है। इस घटना के बाद जेल अधीक्षक ने तत्काल दो जेल प्रहरी को निलंबित कर दिया। 

बता दें कि इससे पहले भी मध्य प्रदेश के कई जेलों में इस तरह की नशीली समाग्री मिल चुकी है। यह सब जेल प्रशासन की मिलीभगत से फल फूल रहा था। हालांकि, पुलिस की सख्त कार्रवाई न होने कारण अपराधियों के हौसले बुलंद हैं।