Gwalior: बीजेपी मंत्री प्रद्युम्न सिंह ने की कांग्रेस कार्यकर्ताओं से धक्का मुक्की

MP By election 2020: कमल नाथ की ग्वालियर यात्रा 18 सितंबर को, नगर निगम ने कांग्रेस के बैनर पोस्टर हटाए, बीजेपी के पोस्टर नहीं हटाने को कांग्रेस ने बताया भेदभाव

Updated: Sep 16, 2020 05:58 PM IST

Gwalior: बीजेपी मंत्री प्रद्युम्न सिंह ने की कांग्रेस कार्यकर्ताओं से धक्का मुक्की

ग्वालियर। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ की शुक्रवार 18 सितंबर को ग्वालियर यात्रा के पहले होर्डिंग लगाने को लेकर कांग्रेस कार्यकर्ताओं और कैबिनेट मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर का विवाद हो गया। कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने प्रद्युम्न सिंह तोमर पर दुर्व्यवहार का आरोप लगाया है। विवाद के बाद कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर के ख़िलाफ़ नारेबाज़ी की। मंत्री तोमर कांग्रेस छोड़ कर बीजेपी में गए हैं और उपचुनाव के पहले क्षेत्र में विरोध झेल रहे हैं। 

ग्वालियर में कांग्रेस ने कमलनाथ की यात्रा के पहले बैनर-पोस्टर और होर्डिंग्स लगाए हैं। बुधवार को नगर निगम ने कांग्रेस के सारे बैनर-पोस्टर हटा दिए। इसके बाद फूलबाग चौराहे पर बड़ी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ता जमा हो गए और बीजेपी व निगम प्रशासन के खिलाफ प्रदर्शन शुरू कर दिया।  

इसीबीच फूलबाग चौराहे पर ही मांझी समाज के धरने में ज्ञापन लेने के लिए ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर आए। इस दौरान कांग्रेसियों ने उन्हें घेर लिया। जब मंत्री अपनी गाड़ी में बैठने लगे तो कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने मुर्दाबाद के नारे लगाए। घटना के वायरल वीडियो में दिखाई दे रहा है कि मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने गाड़ी से उतर कर कांग्रेस कार्यकर्ताओं से कहा कि प्रशासन की कार्रवाई में हस्तक्षेप ना करें। इस दौरान उन्होंने कांग्रेस कार्यकर्ता के हाथ का कांग्रेस का झंडा हटाते हुए उसकी गर्दन झुका दी। जिसके बाद कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने फूलबाग चौराहे पर जबरदस्त हंगामा किया। उन्होंने मंत्री का घेराव कर दिया। पुलिस ने बीच बचाव कर कांग्रेस कार्यकर्ताओं को शांत किया और मंत्री तोमर को प्रदर्शन स्थल से ले गई। मंत्री तोमर ने बयान जारी कर कहा है कि वे मांझी समाज के प्रतिनिधियों से मिलने जा रहे थे और कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने मुझे घेर लिया। कांग्रेस कार्यकर्ता मुझे जनता की सेवा करने से नहीं रोक सकते। 

कांग्रेस का कहना है कि नगर निगम की टीम ने फूल बाग चौराहे पर लगे कमलनाथ के पोस्टर और होर्डिंग हटाए जबकि वहीं पर बीजेपी की युवा स्वाभिमान यात्रा के बैनर भी लगे हुए थे। उन्हें नहीं हटाया गया। नगर निगम की भेदभाव पूर्ण कार्रवाई पर कांग्रेस नेताओं का कहना है कि अगर नगर निगम होर्डिंग हटाने की कार्रवाई कर रही है तो बीजेपी के पोस्टर भी हटाए जाएं। इस दौरान कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने नारेबाजी भी की।  

कांग्रेस नेता देवाशीष जरारिया ने ट्वीट किया है कि ग्वालियर में कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष  कमल नाथ के आगमन पहले होर्डिंग बैनर का प्रशासन द्वारा हटाया जाना निंदनीय है। भाजपा प्रशासन का दुरुपयोग कर विपक्ष को दबाने का प्रयास कर रही है। कांग्रेसियों और प्रशासन में टकराव की स्थिति उत्पन्न की गई है, कुछ भी अप्रिय घटित होता है जिम्मेदार शिवराज सिंह चौहान होंगे। 

कांग्रेस नेताओं का धरना, सिंधिया के खिलाफ नारेबाज़ी 
कांग्रेस और कमल नाथ के होर्डिंग हटाने और मंत्री तोमर की धक्कामुक्की से गुस्साएं कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने फूलबाग चौराहे पर पूर्व मंत्री लाखन सिंह के साथ सड़क पर धरने दिया। उन्होंने बीजेपी नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया के खिलाफ नारे लगाए। कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने ज्योतिरादित्य सिंधिया का पुतला जला कर नाराज़गी प्रकट की।