डिंडोरी के स्कूल में जूतम-पैजार, क्लास में छात्रों ने एक दूसरे को लात घूंसों से पीटा

समनापुर के शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय में छात्रों के बीच गैंग वॉर, क्लास में होती रही गालियों की बौछार, शिक्षक रहे नदारद

Updated: Nov 27, 2021, 09:19 PM IST

डिंडोरी के स्कूल में जूतम-पैजार, क्लास में छात्रों ने एक दूसरे को लात घूंसों से पीटा

डिंडौरी। सरकारी स्कूल में नेतागिरी की तर्ज पर छात्रों का ऐसा वीडियो सामने आया है, जो कई बार विधानसभाओं में देखने को मिलता रहता है। डिंडोरी में 11वीं में पढ़नेवाले सरकारी स्कूल के बच्चे जब आपस में भिड़े तो लात-घूसे, टेबल-कुर्सी चलने लगी। लेकिन यहां नेताओं की तरह अहम नहीं, बल्कि सरकारी अनदेखी जिम्मेवार लगती है।   

मामला कुछ यों था कि कला संकाय के छात्र क्लास में बैठने की जगह को लेकर झगड़ रहे थे और बात बिगड़ते बिगड़ते गाली गलौच और फिर लात-घूंसे तक पहुंच गया। छात्र एक-दूसरे पर टेबल उठा-उठाकर पटक रहे थे, तभी क्लास के अन्य छात्र ने इसका वीडियो बना लिया। जब छात्रों के बीच ये संघर्ष चल रहा था तब शिक्षक नदारद थे और प्रिंसिपल इसे मामूली समझ रफा-दफा करने में लग गए।

आर्ट्स सेक्शन के इन छात्रों का मामला फिलहाल किसी थाने में दर्ज नहीं करवाया गया है और छात्रों को समझा-बुझाकर घर भेज दिया गया। स्कूल के प्रिसिंपल ने छात्रों के परिजनों को बुलवाकर बच्चों की शिकायत कर दी और स्कूल की जिम्मेदारी खत्म मान ली। लेकिन जब ये हंगामा चल रहा था तो क्लास में कोई स्टाफ उन्हें कंट्रोल करने क्यों नहीं पहुंचा। बहस डेस्क के लिए हो रही थी तो यह भी सवाल है कि क्या स्कूल में डेस्क की कमी है। क्या सभी बच्चों के लिए पर्याप्त डेस्क और कुर्सी नहीं उपलब्ध करायी जा रही है। क्या शिक्षा देनेवालों ने बच्चों को अहिंसा, धैर्य और बेहतर इंसान बनने का पाठ नहीं पढ़ाया।

और पढ़ें: सतना की कोचिंग में हुआ फुल एक्शन एंड ड्रामा, बदमाशों ने स्टूडेंट को बेदम होने तक पीटा

स्कूल में अनुशासन बनाए रखने की नसीहत के साथ घटना का पटाक्षेप तो हो गया लेकिन युवाओं में बढ़ रही हिंसा और गुस्सा की भावना पर शिक्षक और समाज को चिंतित होने की जरूरत है। हाल ही में सतना के कोलगवां में एक कोचिंग क्लास में किसी बात को लेकर कुछ बदमाशों ने क्लास में छात्र की पिटाई कर दी थी, जिसके बाद पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज कर किया।