Shivraj Singh: CM बीमार तो BJP MLA ने छोड़ा अन्न जल

Corona in MP: शिवराज सिंह चौहान ने कहा- अन्न-जल त्यागने की जरूरत नहीं, लोगों ने कहा-पाखंड की पराकाष्ठा

Updated: Aug-05, 2020, 01:22 AM IST

Shivraj Singh: CM बीमार तो BJP MLA ने छोड़ा अन्न जल

रीवा। मध्यप्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान के जल्द ठीक होने के लिए रीवा जिले के त्योंथर से बीजेपी विधायक श्यामलाल द्विवेदी ने अन्न-जल त्यागने का एलान किया है। सावन महीने के अंतिम सोमवार को अपने विधानसभा क्षेत्र के टेकनाथ शिव मंदिर में भगवान की पूजा करने पहुंचे द्विवेदी ने कहा कि सीएम चौहान के स्वस्थ होने तक वह मंदिर के आश्रम में ही रहेंगे।

बीजेपी विधायक ने सीएम चौहान के अलावा पार्टी के अन्य दिग्गज नेताओं के कोरोना संक्रमित होने पर चिंता जताई है। उउन्होंने केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के कोरोना पीड़ित होने के सवाल पर स्थानीय मीडियाकर्मियों से कहा कि देशभर में असुर शक्तियों का प्रकोप बढ़ रहा है। ऐसे में शाह और चौहान का स्वस्थ होना बेहद जरूरी है। उन्होंने कहा, 'शासन-प्रशासन की तमाम कोशिशों के बावजूद कोरोना वायरस संक्रमण का फैलाव बढ़ता जा रहा है। इसलिए मैं भगवान शिव के दरबार में जनता की सुख-समृद्धि और शांति के लिए प्रार्थना कर रहा हूं। 

ऐसा करने की कोई जरुरत नहीं - शिवराज

विधायक के एलान के बाद सीएम चौहान ने कहा है कि ऐसा करने की कोई आवश्यकता नहीं है। उन्होंने ट्वीट कर कहा, 'श्यामलाल जी, मैं आपकी भावना का आदर करता हूं, लेकिन अन्न-जल त्यागने की कोई आवश्यकता नहीं है। आप शीघ्र अन्न-जल ग्रहण करें। अपना ध्यान रखें। डॉक्टर्स अपना कार्य अच्छी तरह से कर रहे हैं। मैं जल्द ही घर जाऊंगा। आपके इस असीम स्नेह के लिए सहृदय धन्यवाद देता हूं।'

बीजेपी नेता ने अपने शुभचिंतकों से कहा है कि इस प्यार का कोई मोल नहीं है लेकिन मैं सदैव आपके कल्याण के लिए कार्य करूंगा। उन्होंने लिखा, 'मुझे यह भी पता चला है कि कुछ लोगों ने मेरे स्वस्थ होने तक अन्न का त्याग किया है। मैं उनकी भावनाओं का आदर करता हूँ, उन्हें सादर धन्यवाद देता हूँ। मेरी उन सभी से प्रार्थना है कि ऐसा न करें, डॉक्टर्स की पूरी टीम मेरे स्वास्थ्य का ध्यान रख रही है और मैं जल्द ही ठीक होकर वापस लौटूंगा।' 

मरीज को खाट पर लादकर अस्पताल ले जाने वाली खबर पहुंची या नहीं? 

सीएम के इस ट्वीट पर लोग बीजेपी एमएलए को काफी ट्रॉल कर रहे हैं। एक ट्वीटर यूजर संजय मिश्रा ने इसे पाखंड की पराकाष्ठा  बताते हुए कहा है कि इतना त्याग और तपस्या जनता के लिए किए होते तो शायद आज प्रदेश की जनता इतनी बदहाल और बेबस नहीं होती। वहीं एक अन्य यूजर प्रकाश मिश्रा ने सीएम से पूछा है कि अन्न-जल त्यागने की खबर तो आप तक पहुंच गई लेकिन कच्ची सड़क होने के कारण मरीज को खाट पर लादकर अस्पताल ले जाने वाली खबर पहुंची या नहीं? 

बता दें कि मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान बीते 25 जुलाई को कोरोना संक्रमित होने के बाद राजधानी भोपाल स्थित निजी अस्पताल चिरायु में भर्ती हुए थे। इस दौरान शिवराज की तीन बार कोरोना जांच हुई लेकिन रिपोर्ट्स पॉजिटिव आए जिस वजह से उन्हें अस्पताल में ही रहने को कहा गया है। हालांकि शिवराज की हालत स्थिर है।