MP में बारिश, बाढ़ और बर्बादी, जयवर्धन सिंह ने की सरकार से राहत की अपील, कार्यकर्ताओं को मुस्तैदी की हिदायत

मौसम विभाग ने जारी किया रेड अलर्ट, मदद के लिए उतारनी पड़ी सेना, जयवर्धन सिंह ने कार्यकर्ताओं को राहत कार्यों में सहयोग करने का दिया संदेश, सीएम शिवराज ने केंद्रीय रक्षा मंत्री को किया आगाह

Updated: Aug 03, 2021, 08:53 PM IST

MP में बारिश, बाढ़ और बर्बादी, जयवर्धन सिंह ने की सरकार से राहत की अपील, कार्यकर्ताओं को मुस्तैदी की हिदायत

शिवपुरी/गुना। मध्य प्रदेश में मॉनसून अपने पूरे शबाब पर है। लेकिन कई इलाकों में इसने तबाही का मंज़र भी पैदा कर दिया है। प्रदेश के कई हिस्से बीते कुछ दिनों से पूरी तरह से कट से गए हैं। बारिश का पानी नडी नालों से बरकर अब रास्तों और घरों में तबाही मचाने लगा है। कहीं ट्रेंने रोकनी पड़ी हैं तो कहीं आवागमन को राह ही नहीं बची है। पिछले चार दिनों से हो रही मूसलाधार बारिश ने शिवपुरी और गुना जिलों में बाढ़ से हालात पैदा कर दिए हैं। कांग्रेस विधायक जयवर्धन सिंह ने गुना और आस पास के इलाकों में जनता को आ रही परेशानियों पर चिंता जताई है। पूर्व मंत्री ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से राहत कार्यों में तेजी लाने की अपील की है।

जयवर्धन सिंह ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं से भी कहा है कि वे राहत बचाव कार्य में सहयोग करें। उन्होंने ट्वीट किया है कि, 'शिवपुरी और गुना में लगातार हो रही बारिश से हालात ख़राब हो चुके है, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी से निवेदन है कि राहत कार्यो में तेजी लाएं एवं जिन लोगों का नुकसान हुआ है उन्हें तत्काल मुआवज़ा दिया जाए। कांग्रेस कार्यकर्ताओं से भी निवेदन है कि राहत कार्यो में सहयोग करें।' 

बारिश की वजह से कुछ जगहों पर स्थिति इतनी खराब हो चुकी है कि सेना की मदद लेनी पड़ी है। गुना जिले के बमोरी क्षेत्र अंतर्गत अमाल्या गांव में नदी का पानी पुल के ऊपर बह रही है। पुल के ऊपर मोटरसाइकिल से पार होने के चक्कर में दो लोग बीच में ही फंस गए। इस घटना का वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है, जिसमें देखा जा सकता है कि दो व्यक्ति पुल के ऊपर पानी के साथ बहने लगते हैं। हालांकि, उन्होंने किसी तरह खुद को तो बचा लिया लेकिन उनकी बाइक देखते ही देखते लहरों में समा गई। 

गुना जिला मुख्यालय में वार्ड 13 में दुर्गा टॉकीज के पीछे एक तीन मंजिला मकान बारिश की वजह से जमींदोज हो गया। गनीमत ये रही कि हादसे में कोई हताहत नहीं हुआ। शहर की कई कॉलोनियां जलमग्न हो गई हैं। हालत ये है कि घरों के भीतर घुटनों तक पानी घुस आया है। बमोरी विधानसभा क्षेत्र की स्थिति सबसे खराब है। यहां हाईवे डूब जाने के कारण जिला मुख्यालय से संपर्क टूट चुका है।

यह भी पढ़ें: 15 घंटों से फंसी हुई है ट्रेन, बारिश में नदी बनी पटरियां, बिन बिजली 400 यात्री बेहाल

आधा दर्जन जिलों में रेड अलर्ट

मौसम विभाग ने आधा दर्जन जिलों में भारी बारिश होने की चेतावनी जारी की है। ग्वालियर-चंबल संभाग के श्योपुर, शिवपुरी, ग्वालियर, मुरैना, भिंड, अशोकनगर, दतिया और गुना जिले में रेड अलर्ट जारी कर दिया गया है। इन जिलों में 50 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलने के साथ बिजली कड़कने और गिरने की भी चेतावनी है। बाढ़ पीड़ित गांवों में रेस्कयू ऑपरेशन के लिए  ग्वालियर से सेना की 1 एएलएच हेलीकॉप्टर और 2 बी-17 हेलीकॉप्टरों ने उड़ान भरी है। साथ ही 2 और बी-17 हेलीकॉप्टर स्टैंडबाय में हैं। 

सीएम शिवराज ने बाढ़ प्रभावित इलाकों की जानकारी रक्षामंत्री राजनाथ सिंह को दी है। सीएम ने ट्वीट कर बताया, 'आज रक्षामंत्री राजनाथ सिंह से टेलीफोन पर चर्चा कर मध्यप्रदेश में बाढ़ की स्थिति और बचावकार्य के संबंध में विस्तारपूर्वक जानकारी दी। मैंने उन्हें एनडीआरएफ की टीम और एयरफोर्स को तुरंत भेजने के लिए धन्यवाद दिया, साथ ही सेना भेजने का भी अनुरोध किया है। रक्षामंत्री ने आश्वस्त किया है कि वे बचावकार्य में मध्यप्रदेश की हरसंभव सहायता करेंगे। इसके लिए मैं मध्यप्रदेश की जनता की ओर से उन्हें सहृदय धन्यवाद देता हूँ।'