कटनी SP का अजीबोगरीब आदेश, सिख और मुसलमानों को आतंकियों की श्रेणी में रखा

राज्यपाल के प्रवास से पहले कटनी एसपी का द्वारा जारी आदेश वायरल, सिख, मुसलमान, जेकेएलएफ, उल्फा, सिमी, एलटीटीई आतंकवादियों पर सख्त नजर की बात, कांग्रेस बोली- सरकार इन्हें पद्मश्री से नवाजेगी

Updated: Dec 09, 2021, 09:05 AM IST

कटनी SP का अजीबोगरीब आदेश, सिख और मुसलमानों को आतंकियों की श्रेणी में रखा

कटनी। मध्य प्रदेश के राज्यपाल मंगूभाई पटेल के प्रवास के दौरान सुरक्षा व्यवस्था को लेकर कटनी एसपी के एक आदेश ने हंगामा मचा दिया है। दरअसल, एसपी ने अपने आदेश में सिख और मुसलमानों को आतंकियों की श्रेणी में रखा है। हालांकि, मामले पर हंगामा बढ़ने के बाद पुलिस विभाग ने खेद जताते हुए कहा है की यह धोखे से हो गया। विपक्ष ने इसपर आपत्ति जताते हुए कहा है की आप एसपी हैं या बीजेपी प्रवक्ता।

रिपोर्ट्स के मुताबिक मंगलवार को राज्यपाल मंगूभाई पटेल कटनी पहुंचे थे। राज्यपाल के आगमन को लेकर कटनी एसपी सुनील जैन ने पुलिसकर्मियों के लिए एक विशेष आदेश जारी किया था। इस आदेश के कॉलम नंबर 6 में लिखा गया कि 'सिख, मुसलमान, जेकेएलएफ, उल्फा, सिमी, एलटीटीई आतंकवादियों पर सख्त नजर रखी जाए।' आदेश से स्पष्ट प्रतीत होता है कि कटनी एसपी सिख और मुसलमानों को भी आतंकी संगठनों की तरह देखते हैं।

यह भी पढ़ें: शौर्य और साहस का दूसरा नाम थे जनरल बिपिन रावत, पीएम मोदी ने जांबाज योद्धा के निधन पर जताया शोक

आदेश सामने आने के बाद विपक्ष ने कड़ी आपत्ति जताई है। कांग्रेस प्रवक्ता केके मिश्रा ने कहा है की, 'वाह, SP कटनी, आपको धन्यवाद।अभी तक BJP ही देश के अन्नदाताओं व मुसलमानों को आतंकवादी मानती रही! अब आपके नेतृत्व वाली पुलिस भी राज्यपाल के प्रवास के मद्देनजर इन्हें अधिकृत रूप से आतंकवादी मान रही है! आप SP हैं या BJP प्रवक्ता? यह सरकार निःसंदेह आपको दंडित नहीं "पद्मश्री" से नवाज़ेगी।' 

उधर मम्मले पर हंगामा मचने के बाद कटनी पुलिस ने खेद जताया है। कटनी ASP मानोज केड़िया ने कहा कि, 'टाइपिंग मिस्टेक के कारण ऐसा हुआ है। कुछ शब्द छूटने के वजह से अलग अर्थ निकल रहा है। राज्यपाल के प्रवास को लेकर सुरक्षा के मद्देनजर विभागीय स्तर पर गोपनीय पत्र जारी किया गया था, जिसमें टाइपिंग की गलती हो गई। विभाग की मंशा किसी भी समुदाय की भावनाओं को आहत करना नहीं है। इस गलती के लिए दोषी कर्मचारी को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। पुलिस प्रशासन इस मामले में खेद व्यक्त करता है और आगे ऐसा नहीं होगा।'