मध्यप्रदेश महिला कांग्रेस को जल्द मिलेगा नया नेतृत्व, अध्यक्ष पद के लिए शुरू हुई खोज

अध्यक्ष पद की दौड़ में यास्मिन शेरानी, विभा पटेल, रश्मि पवार, कविता पांडेय और विजेता त्रिवेदी शामिल, मांडवी चौहान के निधन के बाद से खाली है पद

Updated: May 26, 2021, 08:46 PM IST

मध्यप्रदेश महिला कांग्रेस को जल्द मिलेगा नया नेतृत्व, अध्यक्ष पद के लिए शुरू हुई खोज
Photo Courtesy: Outlook

भोपाल। दमोह उपचुनाव में मिली जीत के बाद अब जल्द ही कांग्रेस में संगठनात्मक बदलाव की उम्मीद की जा रही है। इस बार बदलाव की शुरुआत महिला कांग्रेस से होने की संभावना है। कांग्रेस सूत्रों के मुताबिक महिला कांग्रेस को जल्द ही नया नेतृत्व मिलने जा रहा है। पूर्व महिला कांग्रेस अध्यक्ष मांडवी चौहान के निधन के बाद पिछले एक महीने से यह पद खाली है।

पार्टी सूत्रों के मुताबिक महिला कांग्रेस अध्यक्ष पद की दौड़ में यास्मिन शेरानी, विभा पटेल, रश्मि पवार, कविता पांडेय और विजेता त्रिवेदी सबसे आगे हैं। माना जा रहा है कि इन मजबूत दावेदारों में से किसी एक को महिला कांग्रेस की कमान सौंपी जा सकती है। अध्यक्ष पद के चुनाव में यास्मिन शेरानी को ओबीसी/अल्पसंख्यक वर्ग से आने का फायदा मिल सकता है। यास्मिन तब सुर्खियों में आईं जब उन्होंने कोरोना संकट के इस दौर में गरीबों के लिए रतलाम में हॉस्पिटल खोल दिया। वे वर्तमान में महिला कांग्रेस की कार्यकारी अध्यक्ष हैं।

यह भी पढ़ें: एमपी में टीकाकरण अभियान में सुस्ती, अविश्वास और अंधविश्वास में डूबा समाज टीके से डर रहा है

विभा पटेल की बात की जाए तो वह कांग्रेस की कद्दावर नेता हैं। विभा राजधानी भोपाल से महापौर भी रह चुकी हैं। उन्हें पार्टी हाईकमान का करीबी माना जाता है, साथ ही राजधानी की राजनीति पर उनकी अच्छी पकड़ है। इसके अलावा वो किरार समाज से आती हैं, जिसपर शिवराज सिंह का मुख्यमंत्री होने की वजह से खासा दबदबा है। 

कविता पांडे, कांग्रेस के कद्दावर नेता श्रीनिवास तिवारी की भतीजी हैं। उन्हें बुंदेलखंड क्षेत्र से होने का फायदा मिल सकता है। कविता वर्तमान में महिला कांग्रेस की कार्यकारी अध्यक्ष हैं। कविता एक जुझारू नेता के रूप में जानी जाती हैं। वह रीवा नगर निगम में महापौर पद का चुनाव लड़ चुकी हैं।

इस दौड़ में एक और नाम रश्मि पवार का है। रश्मि को संगठन चलाने का लंबा अनुभव है। वह छात्र जीवन से ही राजनीति से जुड़ी हुईं हैं। रश्मि पूर्व में कांग्रेस की छात्र इकाई एनएसयूआई की प्रदेश अध्यक्ष भी रह चुकीं हैं। इसके बाद उन्हें यूथ कांग्रेस में उपाध्यक्ष नियुक्त किया गया। रश्मि को ज्योतिरादित्य सिंधिया का करीबी माना जाता था। हालांकि, सिंधिया ने जब पाला बदला तो रश्मि उनके खेमे के साथ न जाकर कांग्रेस में ही रहीं। वह ग्वालियर से विधानसभा चुनाव भी लड़ चुकी हैं। 

यह भी पढ़ें: 1 अप्रैल से अब तक 577 बच्चे हुए अनाथ, मंत्री स्मृति ईरानी ने अनाथ बच्चों की मदद का दिया आश्वासन

धार जिले की महिला कांग्रेस अध्यक्ष विजेता त्रिवेदी का नाम भी चर्चा में है। विजेता अपनी आक्रामक शैली की वजह से पहचानी जाती हैं। कल ही वह मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को चूड़ियां भेंट करने आईं थी। इस दौरान सीएम आवास के बाहर पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया था। बताया जा रहा है कि इन पांच संभावित नामों में से ही किसी एक पर महिला कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सुष्मिता देव फैसला लेंगी। उसके बाद कांग्रेस अध्यक्ष के अप्रूवल के बाद उन्हें नियुक्ति दी जाएगी।

महिला कांग्रेस अध्यक्ष का पद बीते एक महीने से खाली है। संगठन की अध्यक्ष रहीं मांडवी चौहान का पिछले महीने 29 अप्रैल को निधन हो गया था। वह पिछले दो टर्म से अध्यक्ष थीं। मांडवी चौहान ने अध्यक्ष बनने के बाद प्रदेशभर की महिलाओं को जोड़कर संगठन को काफी मजबूत बना लिया था। महिलाओं के बीच उनकी लोकप्रियता ऐसी थी कि उनके एक आह्वान पर सैंकड़ों महिलाएं सड़कों पर आ जाती थीं।