मध्य प्रदेश विधानसभा का शीतकालीन सत्र स्थगित

28 दिसंबर से होना था विधानसभा का सत्र, अब तक क़रीब 60 विधानसभा कर्मचारियों और कई विधायकों के कोरोना संक्रमित होने की ख़बर आ चुकी है

Updated: Dec 28, 2020, 01:54 AM IST

मध्य प्रदेश विधानसभा का शीतकालीन सत्र स्थगित

भोपाल। मध्य प्रदेश विधानसभा का शीतकालीन सत्र स्थगित कर दिया गया है। आज शाम 6 बजे विधानसभा में हुई सर्वदलीय बैठक के दौरान यह फैसला लिया गया है। मीडिया में आई खबरों के मुताबिक अब तक विधानसभा के 60 से ज्यादा कर्मचारी और पांच विधायक कोरोना पॉजिटिव पाए जा चुके हैं। 

विधानसभा का सत्र स्थिगत होने की जानकारी सर्वदलीय बैठक के बाद राज्य के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने मीडिया को दी। मिश्रा ने कहा, 'सर्वदलीय बैठक में कोरोना संक्रमण के ताजा मामलों को देखते हुए विधानसभा का 28 दिसंबर से प्रस्तावित शीतकालीन सत्र फिलहाल स्थगित करने का फैसला लिया गया है। आगे का निर्णय नेता प्रतिपक्ष के सुझाव के मुताबिक विधायकों की समिति के साथ चर्चा कर लिया जाएगा।'

विधानसभा में हुई इस सर्वदलीय बैठक में विधानसभा अध्यक्ष रामेश्वर चौरसिया, राज्य के सीएम शिवराज सिंह चौहान, नेता विपक्ष कमलनाथ, गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा, कांग्रेस विधायक सज्जन सिंह वर्मा समेत अन्य दलों के जनप्रतिनिधि मौजूद थे। इस दौरान विपक्ष के नेता कमलनाथ ने कहा कि जो भी हो नियम का पालन किया जाए। उन्होंने विधानसभा अध्यक्ष से कहा कि यदि सत्र चल सकता है तो चलाया जाए। हालांकि बैठक में सभी बातों पर विचार करने के बाद आखिरकार सत्र को स्थगित करने का निर्णय लिया गया।

यह भी पढ़ें: गृह मंत्री ने कांग्रेस पर आरोप तो लगाए लेकिन विधानसभा सत्र के बारे में कुछ नहीं कहा

इसके पहले कांग्रेस ने यह आरोप लगाया था कि शिवराज सरकार कोरोना के बहाने जनता से जुड़े सवालों से बचना चाहती है और इसीलिए विधानसभा का सत्र नहीं चलाने या सिर्फ एक दिन का सत्र चलाने की साज़िश की जा रही है।

गौरतलब है कि मध्य प्रदेश विधानसभा का तीन दिन का शीतकालीन सत्र सोमवार 28 दिसंबर से लेकर बुधवार 30 दिसंबर तक के लिए प्रस्तावित था। इस दौरान कांग्रेस ने ऐलान किया था कि उसके विधायक ट्रैक्टर और बैलगाड़ियों से विधानसभा का घेराव करेंगे। हालांकि, इसके बाद भोपाल कलेक्टर ने आदेश जारी कर विधानसभा से 5 किलोमीटर की दूरी तक ट्रैक्टर, ट्रॉलियां, बैलगाड़ी सहित कृषि संबंधी अन्य कई वाहनों को प्रतिबंधित कर दिया था। कांग्रेस ने इस रोक को भी लोकतांत्रिक अधिकारों के खिलाफ बताते हुए अपने कार्यक्रम पर डटे रहने का एलान किया था।