शिवराज सरकार ने जनता से की अपील, सोशल मीडिया पर न करें वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट साझा, फ्रॉड के हो सकते हैं शिकार

वैक्सीनेशन प्रमाण पत्र में होती हैं निजी जानकारी, नाम से लेकर, आधार नंबर होते हैं अंकित

Publish: May 30, 2021, 08:38 AM IST

शिवराज सरकार ने जनता से की अपील, सोशल मीडिया पर न करें वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट साझा, फ्रॉड के हो सकते हैं शिकार

भोपाल। मध्यप्रदेश सहित देश भर में टीकाकरण अभियान जारी है। इसी बीच मध्यप्रदेश की भाजपा शासित सरकार ने जनता को जागरुक करने के लिए एक चेतावनी दी है। शिवराज सरकार ने टीका लगाने वाले लोगों से अपील की है कि लोग सोशल मीडिया पर वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट जारी न करें, अन्यथा वे फ्रॉड व साइबर अटैक के शिकार हो सकते हैं। 

मध्यप्रदेश के लोक कल्याण एवं स्वास्थ्य विभाग और जनसंपर्क विभाग ने बाकायदा संयुक्त रूप से एक विज्ञापन जारी किया है। जिसमें लोगों से वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट जारी न करने की अपील की है। शिवराज सरकार ने कहा है कि वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट में आधार नंबर सहित कई निजी जानकारियां होती हैं, लिहाज़ा इसे सोशल मीडिया पर साझा करने की भूल न करें। 

विज्ञापन में कहा गया है, 'आपकी निजी जानकारी, साइबर अपराधियों के लिए बन सकती है लाभकारी। कोविड 19 प्रमाण पत्र पर आपका नाम, आपकी उम्र, आईडी कार्ड, आधार कार्ड डिटेल जैसी महत्वपूर्ण निजी जानकारियां होती है। इसे सोशल मीडिया पर सार्वजनिक करने की भूल न करें।' 

सोशल मीडिया पर अमूमन लोग वैक्सीन लगवाते और उसके प्रमाण पत्र की तस्वीर साझा करते पाए जाते हैं। हालांकि अब तक इससे जुड़ा एक भी सायबर फ्रॉड का मामला सामने नहीं आया है। लेकिन प्रामान पत्र में निजी जानकारी होने के कारण लोगों को सावधानी ज़रूर बरतनी चाहिए।