MP में बच्चों को नहीं मिल रहा मिड डे मील, विभाग की लापरवाही के कारण स्कूलों में नहीं पहुंचा मार्च का खाद्यान्न

प्रधानमंत्री पोषण शक्ति निर्माण के समन्वयक ने लिखा नागरिक आपूर्ति निगम के प्रबंध संचालक को पत्र, मार्च और अप्रैल का नहीं मिला है खाद्यान्न, पीएम पोषण योजना की खुली पोल

Updated: Apr 17, 2022, 09:54 AM IST

MP में बच्चों को नहीं मिल रहा मिड डे मील, विभाग की लापरवाही के कारण स्कूलों में नहीं पहुंचा मार्च का खाद्यान्न
Photo Courtesy: MPBreaking

भोपाल। मध्य प्रदेश में प्रधानमंत्री पोषण योजना से जुड़ी बड़ी लापरवाही सामने आई है। प्रदेश में बच्चों को मिड डे मील उपलब्ध नहीं कराया जा रहा है। दरअसल, प्रधानमंत्री पोषण शक्ति निर्माण योजना से मिलने वाले मध्याह्न भोजन के लिए राशन स्कूलों के लिए सप्लाई नहीं किया गया। पिछले महीने यानी मार्च का राशन भी अबतक नहीं मिल सका है। अप्रैल भी आधा गुजर गया। प्रदेश के बच्चे पिछले डेढ़ महीने से मिड डे मील से वंचित हैं।

पोषण योजना में इस गड़बड़ी का खुलासा पोषण शक्ति निर्माण के राज्य समन्वयक के पत्र से हुआ है। प्रधानमंत्री पोषण शक्ति निर्माण के राज्य समन्वयक आलोक कुमार सिंह ने राज्य नागरिक आपूर्ति निगम के प्रबंध संचालक को पत्र लिखकर खाद्यान्न की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए कहा है। पत्र में बताया गया हैं की
 निगम को 12 हजार 67 टन खाद्यान्न पहुंचाने के लिए आवंटित गए था, लेकिन स्कूलों तक सिर्फ एक हजार 25 टन ही पहुंचा है। पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग ने इस पर आपत्ति उठाई है। 

बता दें कि कोरोना काल में स्कूल बंद होने की वजह से मध्याह्न भोजन व्यवस्था बंद थी। इसकी जगह विद्यार्थियों को सीधे खाद्यान्न दिया जा रहा था। अब स्कूल 100 फीसदी क्षमता के साथ खुल गए हैं। इसलिए मध्याह्न भोजन देने की व्यवस्था प्रारंभ हो गई है। लेकिन यह व्यवस्था शायद सिर्फ कागजों पर ही शुरू हुई है। जमीनी हकीकत बड़े स्तर पर लापरवाही और धांधली की ओर इशारा कर रहे हैं।