अब घर बैठे FIR दर्ज करा सकेंगे शिकायतकर्ता, ई FIR की सुविधा अब MP में भी

मध्य प्रदेश के अलावा झारखंड, नई दिल्ली और उत्तर प्रदेश में ऑनलाइन एफआईआर की सुविधा है, जहां लोग घर बैठे बैठे शिकायत दर्ज करा सकते हैं

Updated: Aug 12, 2021, 07:26 PM IST

अब घर बैठे FIR दर्ज करा सकेंगे शिकायतकर्ता, ई FIR की सुविधा अब MP में भी
Photo Courtesy : Social media

भोपाल। अब प्रदेश के लोग भी घर बैठे ही एफआईआर दर्ज करा सकते हैं। मध्य प्रदेश पुलिस ने शिकायतकर्ताओं के लिए यह सुविधा शुरू कर दी है। शिकायतकर्ताओं को अब अपनी शिकायत दर्ज कराने के लिए पुलिस थानों के चक्कर काटने की ज़रूरत नहीं पड़ेगी। इस सुविधा का लाभ उठाने के लिए लोगों को मध्य प्रदेश पुलिस के पोर्टल (mppolice.gov.in) पर जा कर पहले रजिस्ट्रेशन कराना होगा। हालांकि घर बैठे शिकायत दर्ज कराने की यह सुविधा शिकायत के सीमित मामलों में है। 

कैसे कराएं रजिस्ट्रेशन 
रजिस्ट्रेशन कराने के लिए शिकायतकर्ताओं को सबसे पहले अपने ब्राउज़र में एमपी पुलिस का पोर्टल खोलना होगा। पोर्टल खुलने के बाद शिकायतकर्ता सिटिजन डैशबोर्ड में जा कर अपना रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं। रजिस्ट्रेशन के लिए पहले शिकायतकर्ताओं को लोग इन पैनल में क्रिएट लोग इन वाले सेक्शन को खोलना होगा। जिसके बाद शिकायतकर्ता अपना नाम, पता, आईडी इत्यादि का विवरण देने के बाद अपनी लॉग इन आईडी और पासवर्ड जनरेट कर पाएंगे।  

रजिस्ट्रेशन के बाद कैसे दर्ज होगी एफआईआर 
लॉग इन आईडी खोलने के बाद शिकायतकर्ता की स्क्रीन पर एक शिकायत फॉर्म आएगा। जिसे भरने के बाद शिकायतकर्ता अपनी शिकायत रजिस्टर करा पाएंगे। शिकायत दर्ज होने के बाद शिकायतकर्ता की स्क्रीन पर एप्लिकेशन नंबर आएगा। जिसे शिकायतकर्ता डॉउनलोड कर के अपने पास रख सकते हैं। 

पुलिस कैसे करेगी शिकायत का वेरिफेकशन 
 पुलिस की तरफ से शिकायतकर्ता की ई-मेल आईडी पर एक मेल जाएगा अथवा फोन पर मेसेज प्राप्त होगा। इसी के ज़रिए शिकायतकर्ता एफआईआर की कॉपी डॉउनलोड कर पाएंगे। 

हालांकि यह सुविधा इस समय केवल सीमित प्रकार की शिकायतों के लिए ही है। यह केवल वाहन चोरी या साधारण चोरी जैसे मामलो में है। इस सुविधा का लाभ केवल वही शिकायतकर्ता उठा सकते हैं जिनका वाहन चोरी हुआ हो। लेकिन चोरी किया गया यह वाहन भी 15 लाख से कम की कीमत का होना चाहिए। सामान्य चोरी भी एक लाख से कम की होनी चाहिए। घटना में आरोपी अगर अज्ञात हो और घटना में किसा तरह का बल प्रयोग या चोट न लगी हो, ऐसी स्थिति में ही शिकायतकर्ता ऑनलाइन एफआईआर दर्ज करा पाएंगे। छतरपुर के रहने वाले राहुल सेन ने पहली ईएफआईआर भी दर्ज करा दी है। उन्होंने वाहन चोरी की एफआईआर दर्ज करा दी है।