भोपाल, इंदौर, जबलपुर में लॉकडाउन के बावजूद रद्द नहीं होगी MPPSC की परीक्षा

एमपीपीएससी की मेंस परीक्षा का आयोजन रविवार 21 मार्च को किया जाना है, इस परीक्षा में आरक्षण को लेकर विवाद है, हाई कोर्ट में मामला लंबित है

Updated: Mar 20, 2021, 09:22 AM IST

भोपाल, इंदौर, जबलपुर में लॉकडाउन के बावजूद रद्द नहीं होगी MPPSC की परीक्षा
Photo Courtesy: News 18.com

भोपाल। मध्य प्रदेश लोक सेवा आयोग ने साफ कर दिया है कि MPPSC मेन्स परीक्षा का आयोजन अपने तय कार्यक्रम के अनुसार ही होगा। इससे यह साफ हो गया है कि अब परीक्षा रविवार को अपने निर्धारित समय पर ही होगी। हालांकि जबलपुर, भोपाल और इंदौर में रविवार को लॉकडाउन लगाए जाने से यह कयास लगाए जा रहे थे कि परीक्षा को कम से कम हाई कोर्ट का फैसला आने तक स्थगित किया जा सकता है। 

मध्य प्रदेश के तीन शहरों में रविवार को टोटल लॉकडाउन घोषित किया गया है। भोपाल, इंदौर और जबलपुर में लोगों की आवाजाही प्रतिबंधित रहेगी। भले ही सरकार ने लॉकडाउन में परीक्षार्थियों के आवागमन की छूट दे दी हो, लेकिन इसके बावजूद कितने छात्र परीक्षा केंद्रों तक पहुंच पाएंगे यह भी एक बड़ा सवाल है।

यह भी पढ़ेंभोपाल, इंदौर और जबलपुर में लॉकडाउन का एलान, 21 मार्च को पूरी तरह बंद रहेंगे तीनों शहर

कांग्रेस नेता देवाशीष जरारिया ने कहा है कि मुख्यमंत्री जी ने 21मार्च को कोरोना के कारण 3 जिलों में लॉकडाउन घोषित किया है। उसी दिन MPPSC की विवादों में पड़ी परीक्षा भी है, जिसमे आरक्षण नियमों की अवहेलना की गई है। छात्र जिसको लेकर कोर्ट गए हैं और लगातार आंदोलन कर रहे है। देवाशीष ने आगे कहा, मुख्यमंत्री जी आपको तत्काल परीक्षा निरस्त कर देनी चाहिए, ताकि छात्रों को कोरोना के संकट का सामना न करना पड़े। साथ ही साथ तब तक माननीय न्यायालय भी इस मामले का पटाक्षेप कर देंगे। छात्रों के हित में आपसे सकारात्मक निर्णय की उम्मीद करता हूँ।'

 

दरअसल रविवार को लॉकडाउन लगाए जाने के अलावा आरक्षण प्रक्रिया को लेकर हाई कोर्ट में लंबित मामले के आधार पर भी परीक्षा को स्थगित करने की मांग हो रही है। MPPSC भर्ती प्रक्रिया में लगभग 73 फीसदी सीटें आरक्षित घोषित कर दी गई हैं, जबकि 40 फीसदी सीटें अनारक्षित वर्ग के लिए हैं। इन्हें जोड़ दें तो आंकड़ा 113 फीसदी तक पहुंच जाता है। इस विवाद पर 26 मार्च को हाई कोर्ट का फैसला आने की उम्मीद है।