इंदौर पुलिस के पास सबूत नहीं, फिर भी जेल में ही रहेंगे कॉमेडियन फ़ारूक़ी समेत सभी 6 युवक

इंदौर पुलिस अब तक इस केस में कोई ठोस सबूत पेश नहीं कर सकी, फिर भी फ़ारूक़ी समेत छह युवक दो हफ़्ते से ज़्यादा वक़्त से जेल में बंद हैं, केस डायरी पेश नहीं करने के कारण शुक्रवार को सुनवाई नहीं हो सकी

Updated: Jan 16, 2021, 12:17 PM IST

इंदौर पुलिस के पास सबूत नहीं, फिर भी जेल में ही रहेंगे कॉमेडियन फ़ारूक़ी समेत सभी 6 युवक
Photo Courtesy: The Newscrunch

इंदौर। मध्यप्रदेश हाई कोर्ट में शुक्रवार को स्टैंड अप कॉमेडियन मुनव्वर फारूकी की ज़मानत याचिका पर सुनवाई होनी थी। लेकिन पुलिस द्वारा केस डायरी पेश न किए जाने के कारण सुनवाई एक हफ्ते के लिए टाल दी गई। बीजेपी विधायक मालिनी गौड़ के बेटे एकलव्य गौड़ ने फारूकी पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और देवी देवताओं के अपमान का आरोप लगाया है, लेकिन इंदौर पुलिस अब तक इस आरोप की पुष्टि के लिए कोई सबूत पेश नहीं कर सकी है। इस मामले में इंदौर पुलिस ने फारूकी के अलावा नलिन यादव, प्रखर व्यास, प्रियम व्यास और एडविन एंथनी को 1 जनवरी को गिरफ्तार किया था। इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक इसके अगले दिन फारूकी के दोस्त सदाकत खान को पुलिस ने उस वक्त गिरफ्तार कर लिया, जब वो उससे मिलने अदालत में गया था।

स्टैंड अप कॉमेडियन के मामले में कल मध्यप्रदेश हाई कोर्ट में दलीलें पेश की जानी थी। न्यायमूर्ति रोहित आर्य फारूकी की ज़मानत याचिका पर सुनवाई करने वाले थे। सुप्रीम कोर्ट में अधिवक्ता विवेक तन्खा फारूकी का पक्ष रखने हाई कोर्ट पहुंचे थे। लेकिन तुकोगंज पुलिस द्वारा कॉमेडियन की केस डायरी पेश नहीं की गई। लिहाज़ा हाई कोर्ट ने ज़मानत याचिका पर सुनवाई को आगे बढ़ा दिया। खबरों के मुताबिक फारूकी और उसके साथियों की ज़मानत याचिका पर सुनवाई अब 25 जनवरी को होगी। इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक गिरफ्तार युवकों की तरफ से पेश वकील अंशुमान श्रीवास्तव ने अनुरोध किया कि अदालत पुलिस को केस डायरी लाने का निर्देश देकर कुछ देर बाद जमानत पर सुनवाई कर सकती है, क्योंकि सड़क के उस पार ही पुलिस स्टेशन है। लेकिन कोर्ट ने अनुरोध नहीं माना। श्रीवास्तव का कहना है कि पुलिस केस डायरी पेश न करने जैसी हरकतें जानबूझकर जमानत में देर करने के लिए कर रही है। 

फारूकी के साथ साथ 6 अन्य लोग भी इस समय पुलिस की हिरासत में है। उनमें से एक शो ऑर्गनाइजर का छोटा भाई है, जो उस शो में दर्शक की हैसियत से मौजूद था। एक व्यक्ति फारूकी का दोस्त है। अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक फारूकी की गिरफ्तारी के बाद उससे मिलने आए जिस दोस्त को अगले दिन गिरफ्तार किया गया, उसका उस कार्यक्रम से कोई लेना देना नहीं था।

पंद्रह दिन से जेल में बंद नलिन यादव की सबसे बड़ी तकलीफ ये है कि उसकी मां का निधन दो महीने पहले ही हुआ है, जिसके बाद उसके नाबालिग छोटे भाई की देखरेख करने वाला बाहर कोई नहीं है। उसके जेल में बंद होने के बाद से वो नाबालिग बच्चा ही नलिन की रिहाई की कोशिश में जहां-तहां धक्के खा रहा है। नलिन के भाई ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि गिरफ्तार किए जाने तक नलिन ने तो अपना स्टैंडअप कॉमेडी का कार्यक्रम पेश भी नहीं किया था। अखबार के मुताबिक एडविन एंथनी के बारे में सिर्फ इतना ही पता है कि वो इंदौर का रहने वाला है और इवेंट कोऑर्डिनेटर का काम कर रहा था। इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक एंथनी की तरफ से तो अब तक जमानत की अर्ज़ी भी दाखिल नहीं की गई है। 

क्या है मामला 

दरअसल एक जनवरी इंदौर के एक कैफे में कॉमेडी शो का आयोजन किया गया था। शो में परफॉर्मेंस दे रहे स्टैंड अप कॉमेडियन मुनव्वर फारूकी के ऊपर स्थानीय बीजेपी विधायक मालिनी गौड़ के बेटे एकलव्य गौड़ की शिकायत के बाद पुलिस ने फारूकी को गिरफ्तार किया था। एकलव्य गौड़ ने शिकायत की थी फारूकी ने अपने शो में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और देवी देवताओं का अपमान किया है। लेकिन इस पूरे मामले में सबसे बड़ी बात यह निकल कर सामने आई है कि तुकोगंज पुलिस को फारूकी के खिलाफ एक भी ऐसा वीडियो नहीं मिला है, जिसमें इस बात की पुष्टि हो कि फारूकी ने वास्तव में किसी का अपमान किया है। शो में मौजूद कई लोग सोशल मीडिया पर भी यह बात कह चुके हैं कि फारूकी ने शो के दौरान किसी का अपमान नहीं किया था।