पंचायत चुनाव 2022: 4 लाख से ज्यादा उम्मीदवारों को चुनाव चिन्ह आवंटित, तलवार से पिचकारी तक ऐसे हैं सिंबल

पंचायत चुनाव के लिए निर्वाचन आयोग ने 100 से अधिक चुनाव चिन्ह बनाए हैं, खास बात ये है कि रूतबे वाले पद के हिसाब से ही सिंबल दिया गया है, जिला पंचायत के लिए तलवार जैसे चिन्ह हैं तो पंच के लिए फावड़ा

Updated: Jun 11, 2022, 01:15 PM IST

पंचायत चुनाव 2022: 4 लाख से ज्यादा उम्मीदवारों को चुनाव चिन्ह आवंटित, तलवार से पिचकारी तक ऐसे हैं सिंबल

मध्य प्रदेश में पंचायत चुनाव के लिए ताल ठोक रहे 4 लाख से ज्यादा उम्मीदवारों को शुक्रवार को चुनाव चिन्ह आवंटित किया गया। पंचायतों के जिला पंचायत सदस्य, जनपद पंचायत सदस्य, सरपंच और पंच का चुनाव लड़ रहे उम्मीदवारों के लिए राज्य निर्वाचन आयोग ने सैंकड़ों अलग-अलग चुनाव चिन्हों का चयन किया है।

खास बात यह है कि चुनाव चिन्ह रुतबे वाले पद के हिसाब से आवंटित किए गए हैं। जिला पंचायत के लिए दो तलवार और एक ढाल, तीर कमान, मेज, कुर्सी और रेडियो और हारमोनियम जैसे चुनाव चिन्ह हैं। जनपद पंचायत सदस्य का पद रुतबे में दूसरे नंबर आता है तो उन्हें रेल और हवाई जहाज जैसे चिन्ह दिए जाने हैं। इसके बाद सरपंचों के लिए पुल और बसों जैसे चुनाव चिन्ह दिए गए हैं। जबकि पंच को फावड़ा, सीढ़ी, बाल्टी जैसे मजदूरी के उपक्रम चुनाव चिन्ह के तौर पर दिए गए हैं।

ये हैं चुनाव चिन्ह

जिला पंचायत सदस्य के लिए -तीर कमान, दो पत्तियां, उगता सूरज, पिचकारी, मटका, अंगूठी, बल्ला, चाबी, मोमबत्तियां, कढ़ाई, लड़का-लड़की, नाव, बैंच, गैस सिलेंडर, गैस स्टोव, सिगड़ी, संडासी, पतंग, छाता, लालटेन, फावड़ा और बेलचा, बिजली का बल्ब, सिलाई की मशीन, हाथ चक्की, टेबल, पंखा, स्लेट, रेडियो,हारमोनियम, दो तलवार और एक ढाल,
गैस बत्ती, गुब्बारा, मेज, कुर्सी, मोरपंख, पीपल का पत्ता और सूरज मुखी।

जनपद सदस्य के लिए- ब्लैक बोर्ड, बरगद का पेड़, झोपड़ी, ट्रेक्टर चलाता हुआ किसान, तराजू, फसल काटता हुआ किसान, मशाल, अलमारी, छत का पंखा, टेलीविजन, रेल का इंजन, डीजल पंप, प्रेशर कुकर, कप प्लेट, आरी, कंघी ढोलक, ड्रम, भोंपू, चारपाई और दरवाजा।

सरपंच के लिए कांच का गिलास, फलों सहित नारियल का पेड़, हस्तचलित पंप, ताला और चाबी, अनाज बरसाता हुआ किसान, सब्जियों की टोकरी, गेहूं की बाली, बस, और गेंद, टोप और वायलिन चुनाव चिन्ह दिए गए हैं। वहीं, पंच के लिए सीढ़ी, फावड़ा, बाल्टी, हल, कुल्हाड़ी, बिजली का मूली, आम, केला फ्रॉक और लेडी पर्स को चुनाव चिन्ह बनाया गया है।

बता दें कि पंचायत चुनाव का पहले चरण का मतदान 25 जून, दूसरा का 1 जुलाई और तीसरे का मतदान 8 जुलाई को होगा। चुनाव सुबह 7 से दोपहर 3 बजे तक होगा। इन चुनावों में 3.5 करोड़ से ज्यादा मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे।