MP में पेट्रोल-डीजल की किल्लत, भोपाल के 20 से अधिक पंप हुए ड्राय, कांग्रेस ने बताया श्रीलंका जैसा संकट

मध्य प्रदेश में 50 फीसदी तक कम हुई पेट्रोल-डीजल कि आपूर्ति, डीलर्स एसोसिएशन ने की सरकार से हस्तक्षेप की मांग, कांग्रेस बोली- शिवराज जी, याद रखना जनता सड़कों पर दौड़ाएगी

Updated: Jun 14, 2022, 09:49 AM IST

MP में पेट्रोल-डीजल की किल्लत, भोपाल के 20 से अधिक पंप हुए ड्राय, कांग्रेस ने बताया श्रीलंका जैसा संकट

भोपाल। तेल कंपनियों द्वारा पेट्रोल डीजल की सप्लाई में कटौती का असर मध्य प्रदेश में भी दिखने लगा है। राजधानी भोपाल के 20 से अधिक पेट्रोल पंप ड्राय हो गए हैं। इन पंपों पर न डीजल मिल रहा है और न ही पेट्रोल। ग्राहकों को इस कारण परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। पेट्रोलियम की किल्लत पर विपक्षी दल कांग्रेस ने कहा है कि श्रीलंका जैसे हालात हो रहे हैं, शिवराज जी याद रखना जनता सड़कों पर दौड़ाएगी।

दरअसल, तेल कंपनियों ने मध्य प्रदेश में पेट्रोल-डीजल की सप्लाई घटा दी है। पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन ने धान और सोयाबीन की बोवनी, साथ ही पंचायत चुनावों को देखते हुए अतिरिक्त सप्लाई की मांग की है। हालांकि, तेल कंपनियों ने इसे अनसुना कर दिया है। पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन ने अब राज्य सरकार से मामले में हस्तक्षेप की अपील की है।

पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन मध्यप्रदेश ने इस संबंध में मुख्य सचिव मप्र सरकार को पत्र भी लिखा है। इसमें कहा गया है कि सार्वजनिक क्षेत्र की तेल कंपनियों द्वारा मांग के अनुसार पेट्रोल-डीजल की आपूर्ति कराई जाए। अभी पर्याप्त ईंधन उपलब्ध नहीं कराया जा रहा। इसके बाद मंत्रालय के एक प्रतिनिधि ने एसोसिएशन के सदस्यों से बातचीत की।

एसोसिएशन के अध्यक्ष अजय सिंह ने बताया कि सप्लाई लगभग आधी हो गई है। इस कारण कई पंपों पर पेट्रोल-डीजल जल्दी खत्म हो जाता है। इससे पंप जल्दी ड्राई हो जाते हैं। भोपाल के रायसेन रोड व इंद्रपुरी इलाके में स्थित पंपों पर पेट्रोल खत्म हो गया है। ऐसी ही स्थिति अन्य पंपों की भी है। यह सीजन डीजल की डिमांड का है। डीजल उपलब्ध नहीं होने के कारण किसानों की खेती प्रभावित हो सकती है।

विपक्षी दल कांग्रेस ने पेट्रोलियम में किल्लत की तुलना श्रीलंका से की है। कांग्रेस ने ट्वीट किया, 'मध्यप्रदेश के सामने श्रीलंका जैसा संकट, पेट्रोल-डीज़ल की क़िल्लत शुरू, अधिकांश पेट्रोल पंप बंद होने की कगार पर, मच सकती है अफ़रा-तफ़री। शिवराज जी,
श्रीलंका में भी शुरुआत डीज़ल-पेट्रोल से हुई थी।'

कांग्रेस ने एक अन्य ट्वीट में लिखा है कि, 'मध्यप्रदेश में पेट्रोल डीज़ल के लिये हाहाकार, राजधानी भोपाल के 20 से अधिक पंपों में डीज़ल-पेट्रोल ख़त्म, प्रदेश में 40% तक कम हुई आपूर्ति। शिवराज जी, अब तो पानी सर के ऊपर से गुजर रहा है, तुम्हारी सत्ताहवस की सजा जनता क्यों भुगते? “याद रखना ! जनता सड़कों पर दौड़ायेंगी”