मध्य प्रदेश हाईकोर्ट 8 महीने बाद हुआ गुलज़ार, अदालत में शुरू हुई प्रत्यक्ष सुनवाई

MP High Court: जबलपुर के अलावा इंदौर और ग्वालियर बेंच में भी दस साल पुराने और फाइनल हियरिंग वाले मामलों में हुई अदालत में आमने-सामने मौजूद रहकर सुनवाई

Updated: Dec 03, 2020, 07:39 PM IST

मध्य प्रदेश हाईकोर्ट 8 महीने बाद हुआ गुलज़ार, अदालत में शुरू हुई प्रत्यक्ष सुनवाई
Photo Courtesy: News 18

जबलपुर। मध्य प्रदेश हाई कोर्ट में आज से प्रत्यक्ष सुनवाई शुरू हो गई। हाईकोर्ट की मुख्य पीठ जबलपुर के अलावा इंदौर और ग्वालियर बेंच में भी सुनवाई की गई। इस दौरान कोर्ट में वकीलों, पक्षकारों और कर्मचारियों से कोरोना गाइडलाइन का सख्ती से पालन कराया गया। वकील, फरियादी और कोर्ट स्टाफ सभी को टैंपरेचर चेक के बाद भीतर प्रवेश दिया गया। मास्क लगाकर सोशल डिस्टेंसिंग के साथ कोर्ट परिसर में एंट्री दी गई।

हाईकोर्ट की प्रत्यक्ष सुनवाई में केवल अंतिम सुनवाई और 10 साल पुराने केसों को शामिल किया गया। इस प्रत्यक्ष सुनवाई के लिए नियत किए प्रकरणों में पक्षकारों ने 26 नवंबर तक अपनी स्वीकृति प्रदान कर दी थी। गुरुवार को हुई भौतिक सुनवाई की समीक्षा के बाद आगे सुनवाई का निर्णय होगा। 

गौरतलब है कि हाईकोर्ट में प्रत्यक्ष हियरिंग में रिट अपील, रिट पिटीशन, क्रिमिनल अपील और सिविल अपील के मामलों को शामिल किया गया। आपको बाता दें कि देश में कोरोना लॉडाउन के बाद से अब तक वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए केसों की सुनवाई हो रही थी। इस सुनवाई के लिए मध्य प्रदेश हाईकोर्ट में पहले से ही पूरा इंतजाम कर लिया गया था।

दरअसल लंबे समय से मध्य प्रदेश हाईकोर्ट के वकील भौतिक सुनवाई की मांग कर रहे थे। हाईकोर्ट बार एसोसिएशन, जबलपुर और जिला अधिवक्ता संघ, जबलपुर की मांग पर हाईकोर्ट प्रशासन ने एक दिवसीय भौतिक सुनवाई की व्यवस्था प्रदान की। गुरुवार की सुनवाई को प्रयोगिक माना जा रहा है, अगर यह सुनवाई सफल रही तो इसे आगे बढ़ाई जा सकेगी। आपको बता दें कि प्रदेश के जिला और कुटुंब न्यायालयों में 23 नवंबर से प्रायोगिक तौर पर भौतिक सुनवाई शुरू कर दी गई है।