आर्थिक तंगी से जूझ रहे स्कूली कर्मचारी ने पूरे परिवार सहित की सुसाइड, घर से चार लाशें बरामद

मध्‍य प्रदेश के ग्‍वालियर ज‍िले के महाराजपुरा गांव में एक घर में 4 लाशें मिलीं। बताया जा रहा है कि घर के मुखिया ने पत्‍नी और दो साल की बेटी को जहर दिया, बाद में मासूम बेटे को फांसी पर लटकाकर खुद भी सुसाइड कर ली, बताया जा रहा है कि परिवार आर्थिक तंगी से जूझ रहा था

Updated: Jul 23, 2022, 09:56 AM IST

आर्थिक तंगी से जूझ रहे स्कूली कर्मचारी ने पूरे परिवार सहित की सुसाइड, घर से चार लाशें बरामद

ग्वालियर। मध्य प्रदेश के ग्वालियर में रोंगटे खड़े कर देने वाली वारदात सामने आई है। यहां एक घर से चार लाशें बरामद की गई हैं। पति-पत्नी और बेटे-बेटी के शव पुलिस को मिले हैं। बताया जा रहा है की मृतक परिवार आर्थिक तंगी से जूझ रहा था। प्रथमदृष्टया प्रतीत हो रहा है कि पति ने पहले पत्नी और बेटी को जहर दिया, फिर बेटे को फांसी पर लटका दिया। आखिरी में खुद ने भी जान दे दी। 

मामला जिले के महाराजपुरा थाना क्षेत्र अंतर्गत महाराजपुरा गांव का है। रिपोर्ट्स के मुताबिक मुरार क्षेत्र में नदी पार टाल पर रहने वाला जितेंद्र बाल्मीक महाराजपुरा में न्यू ईरा स्कूल में 8000 रुपये महीने की नौकरी करता था, वो चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी था। वो आठ दिन पहले ही यहां रहने आया था। इसलिए आस पड़ोस के लोग भी कुछ नहीं कह पा रहे थे।

यह भी पढ़ें: MP में खाट पर सिस्टम: सड़क नदारद, खाट पर लिटा महिला को अस्पताल ले जा रहे ग्रामीण

सीएसपी थाना महाराजपुरा सर्किल रवि भदौरिया ने बताया कि महाराजपुरा गांव में एक घर में एक साथ चार लोगों की मौत की सूचना पुलिस को मिली थी। जिसके बाद पुलिस मौके पर पहुंची तो घर में पति-पत्नी और दो बच्चों की लाश मिली, जिसमें स्कूल कर्मचारी जितेंद्र बाल्मीकि, पत्नी निर्जला बेटा कुलदीप और बेटी जानवी के रूप में मृतकों की पहचान गई। पुलिस को आशंका है कि जितेंद्र ने पत्नी और बेटी को जहर देने के बाद बेटे को फांसी पर लटकाया। इसके बाद खुद भी फांसी पर लटक गया। मौके पर पहुंचे फॉरेंसिक एक्सपर्ट ने भी यही आशंका जताई है। 

फिलहाल पुलिस ने मृतकों के शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिए हैं। पुलिस सामूहिक आत्महत्या की सभी एंगल से जांच कर रही है। मौके से कोई सुसाइड नोट भी नहीं मिला है। स्थानीय लोगों का मानना है कि आर्थिक तंगी आत्महत्या का कारण हो सकता है लेकिन इसकी पुष्टि पुलिस की विस्तृत जांच के बाद ही हो सकेगी।