Portfolio Allotment : शिवराज चौहान कैबिनेट को 11 वें दिन विभाग मिलने की संभावना

Shivraj Cabinet: विश्वास सारंग को सहकारिता, भूपेंद्र सिंह को वित्त और वाणिज्य कर, इमरती देवी को महिला बाल विकास और यशोधरा राजे सिंधिया को उद्योग मंत्रालय के कयास

Publish: Jul 12, 2020 03:16 PM IST

Portfolio Allotment : शिवराज चौहान कैबिनेट को 11 वें दिन विभाग मिलने की संभावना

एमपी में शिवराज मंत्रिमंडल का विस्‍तार तो हो गया मगर विभागों का बंटवारा 10 दिन बाद भी नहीं हो पाया। आपसी खींचतान में हर दिन एक नई तारीख मिल जाती है। शनिवार को ग्‍वालियर दौरे पर गए मुख्‍यमंत्री शिवराज ने मीडिया से चर्चा में कहा था कि विभाग वितरण कल कर दूंगा। यदि मुख्‍यमंत्री ने मीडिया का सवाल टालने के लिए यह बात नहीं कही होगी तो विभागों का वितरण आज संभव है।

गौरतलब है कि कई दौर की बैठकों के बाद भी सीएम शिवराज अपनी कैबिनेट में विभाग वितरण नहीं कर पा रहे हैं। इसका कारण बीजेपी में अहम् विभागों को लेकर जारी खींचतान है। कांग्रेस छोड़कर भाजपा में गए ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया अपने समर्थकों के लिए कुछ खास विभाग मान रहे हैं, जबकि शिवराज उन विभागों को बीजेपी के वरिष्‍ठ नेताओं को देना चाहते हैं।

सूत्र बताते हैं कि ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया तुलसी राम सिलावट को उप मुख्‍यमंत्री बनवाना चाहते थे। दूसरी तरफ कांग्रेस सरकार गिराने में महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाने वाले बीजेपी नेता और वर्तमान गृहमंत्री नरोत्‍तम मिश्रा भी उप मुख्‍यमंत्री बनना चाहते थे। यह मुद्दा अभी सुलझा भी नहीं था कि सिंधिया ने अपने समर्थकों के लिए कांग्रेस सरकार के समय रहे विभाग तथा कुछ अन्‍य मलाईदार विभागों की मांग कर दी है। वे नगरीय प्रशासन, स्‍वास्‍थ्‍य, महिला एवं बाल विकास विभाग जैसे महत्‍वपूर्ण विभाग अपने समर्थकों को दिलवाना चाहते हैं। खबर है कि बीजेपी नेताओं ने सिंधिया खेमे के अधिक मंत्री बनाना तो मंजूर कर लिया मगर वे सिंधिया की पसंद के विभाग सरेंडर करने के मूड में नहीं हैं।

इसी खींचतान के कारण मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान 5 जुलाई की शाम को दिल्‍ली गए थे। चौहान ने दिल्‍ली में केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा व संगठन के अन्‍य नेताओं से मुलाकात की है। दिल्‍ली यात्रा से आने के बाद भी अब तक पेंच नहीं सुलझा है।

विभाग वितरण न होने के कारण कैबिनेट बैठक टाली जा चुकी है। मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरुवार 9 जुलाई को सुबह अपने मंत्रिमंडल की बैठक बुला कर संकेत दिए थे कि वे बुधवार को मंत्रिमंडल के साथियों में विभागों का वितरण कर देंगे। मगर कैबिनेट बैठक का समय 9 जुलाई शाम कर दिया गया है। फिर बैठक स्‍थगित करने की सूचना जारी कर दी गई है।