मध्य प्रदेश में नवंबर में आएंगे 20 अफ्रीकी चीते, कर्मचारियों को मिलेगा सुरक्षा के लिए विशेष हथियार

वन विभाग नेशनल पार्क और सेंचुरी में काम करने वाले कर्मचारियों का करेगा प्रमोशन, कर्मचारियों की डिमांड पर सुरक्षा के लिए दिए जाएंगे हथियार

Updated: Sep 02, 2021, 05:30 PM IST

मध्य प्रदेश में नवंबर में आएंगे 20 अफ्रीकी चीते, कर्मचारियों को मिलेगा सुरक्षा के लिए विशेष हथियार
Photo Courtesy: twitter

भोपाल। टाइगर स्टेट मध्यप्रदेश में चीतों की संख्या लगातार कम हो रही है। वन विभाग ने चीतों की संख्या बढ़ाने की पूरी तैयारी कर ली है। प्रदेश सरकार ने अफ्रीका से 20 चीते लाने को मंजूरी दे दी है। नवंबर के पहले सप्ताह में 10 चीते लाए जाएंगे। उसके बाद दूसरी खेप में अन्य 10 चीते मध्यप्रदेश आएंगे। वन विभाग प्रदेश में चीतों लुप्त हो रही संख्या को लेकर चिंतित है। मध्यप्रदेश के वन मंत्री विजय शाह ने एक कार्यक्रम में मीडिया को संबोधित करते हुए वन विभाग की आगामी योजनाओं के बारे में जानकारी दी।

वन विभाग के कर्मचारियों की समस्या को लेकर भी सरकार गंभीर है। फील्ड पर काम करने वाले छोटे कर्मचारियों, अधिकारियों की सुरक्षा के लिए भी चिंतित है। जल्द ही उनकी डिमांड पर हथियार खरीद कर दिए जाने की बात कही जा रही है। पार्कों में जंगली जानवरों के बीच जान जोखिम में डालकर ड्यूटी करने वालों को उनकी सुरक्षा के लिए हथियार दिया जाएगा।

 वन विभाग के मजदूरों का होगा प्रमोशन

वन विभाग प्रदेश के जंगलों और सेंचुरी में काम करने वाले मजदूरों का प्रमोशन करने का मन बना रहा है। जिससे उन्हें वित्तीय लाभ देने के लिए 12 से 15 साल की सेवा पूरी कर चुके मजदूरों को अगली कैटेगरी में प्रमोट किया जाएगा। अर्ध कुशल से कुशल किया जाएगा। वहीं अकुशल से कुशल मजदूरों की श्रेणी में लाया जाएगा जिससे उनके वेतन में बढ़ोतरी का रास्ता आसान हो सके।

नेशनल पार्क में काम करने वालों के परिवारों को भी जंगलों की सैर का मौका दिया जाएगा। इस दौरान पार्क से संबंधित कर्मचारियों को परिजनों के जिप्सी में घुमाया जाएगा। अक्टूबर में नेशनल पार्क जनता के लिए खोले जाएंगे। जिसके बाद 1 नवंबर तक प्रदेश के विभिन्न नेशनल पार्कों में कैंप लगाकर पार्क डे मनाने की तैयारी की जा रही है।  

प्रदेश के पर्यटन स्थलों का होगा विकास

पार्कों और सेंचुरी की ही तरह मांडू में भी पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए कई तरह की प्लानिंग की जा रही है। मांडू की सबसे ऊंची पहाड़ी पर टावर लगाकर हाईटेक दूरबीन रखी जाएगी। जिससे वहां आने वाले टूरिस्ट यहां की हरियाली और प्राकृतिक नजारों के साथ-साथ नर्मदा नदी के दर्शन कर सके।