महाकाल लोक निर्माण के बाद उज्जैन में दोगुनी हुई विदेशी शराब की बिक्री, बियर की खपत में भी अप्रत्याशित बढ़ोतरी

उज्जैन में नवंबर 2021 के मुकाबले नवंबर 2022 में विदेशी शराब की खपत में हुई 94 फीसदी की बढ़ोतरी, बियर बिक्री 77 फीसदी ज्यादा हुई, टूरिज्म के साथ-साथ फल फूल रहा नशे का कारोबार।

Updated: Dec 06, 2022, 01:28 PM IST

महाकाल लोक निर्माण के बाद उज्जैन में दोगुनी हुई विदेशी शराब की बिक्री, बियर की खपत में भी अप्रत्याशित बढ़ोतरी

उज्जैन। मध्य प्रदेश के उज्जैन में महाकाल लोक निर्माण के बाद शराब की बिक्री में अप्रत्याशित बढ़ोतरी हुई है। बाबा महाकाल की नगरी में पिछले साल के मुकाबले विदेशी शराब की खपत करीब दोगुनी हो गई है। वहीं बियर की बिक्री में भी डेढ़ गुना से ज्यादा वृद्धि दर्ज की गई है।

अंग्रेजी अखबार फ्री प्रेस में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक नवंबर 2021 के मुकाबले नवंबर 2022 में विदेशी शराब की बिक्री में 94 फीसदी की बढ़ोतरी हुई। जबकि पिछले साल नवंबर के मुकाबले इस साल बियर की बिक्री में 77 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई। वहीं देशी शराब की खपत में भी 42 फीसदी उछाल देखने को मिली है। 

यह भी पढ़ें: भारत जोड़ो यात्रा: महू, महाकाल और महिलाओं के जरिए प्रभाव पहुंचाने का जतन

माना जा रहा है कि महाकाल लोक निर्माण के बाद उज्जैन आने वाले टूरिस्ट्स की संख्या में बढ़ोतरी हुई है। इसी का नतीजा है कि शराब की बिक्री भी बेतहाशा बढ़ रही है। यानी महाकाल लोक निर्माण के बाद टूरिज्म उद्योग के साथ-साथ नशे का कारोबार भी फल-फूल रहा है।

पूरे मध्य प्रदेश की बात करें तो पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती द्वारा शराब बिक्री पर प्रतिबंध के खिलाफ चलाया गया अभियान विफल होता दिख रहा है। भारती की अपील और राज्य सरकार के नशामुक्ति अभियान के बावजूद मध्य प्रदेश के लोग पहले से कहीं ज्यादा शराब का सेवन कर रहे हैं।

बता दें कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने 2 अक्टूबर को उमा भारती की मौजूदगी नशामुक्ति अभियान शुरू किया था। दोनों नेताओं ने राज्य की जनता को शराब और नशीले पदार्थों से दूर रहने की शपथ दिलाई थी। बहरहाल, आंकड़े बताते हैं कि चौहान और उमा की अपील का लोगों पर मुश्किल से ही कोई असर पड़ा है। इतना ही नहीं शराब पीने वालों की संख्या घटने के बजाय और बढ़ गई है।

यह भी पढ़ें: जबलपुर: शासकीय अस्पताल के बेड पर कुत्तों का कब्जा, सीएम हेल्पलाइन पर मरीज ने की शिकायत

मध्य प्रदेश के राजगढ़, गुना, कटनी और अशोकनगर में देशी शराब की खपत में वृद्धि हुई है। जबकि
सतना, विदिशा, उज्जैन, शाजापुर, धार, झाबुआ, बुरहानपुर, भिंड, अशोकनगर और अलीराजपुर में विदेशी शराब की खपत में बढ़ोतरी हुई है। वहीं आगर मालवा, अशोकनगर, भिंड, बहाना, कटनी, मुरैना, नरसिंहपुर, खंडवा, खरगोन, सागर, शाजापुर, शिवपुरी, सिंगरौली और उज्जैन में बीयर पीने वालों की संख्या में बढ़ोतरी हुई है।