सिंगरौली में प्रशासन और सब्जी व्यापारियों के बीच हुई झड़प, पत्थरबाजी कर प्रशासनिक टीम को खदेड़ा

सिंगरौली में हिर्वाह बस्ती में सब्जी बेच रहे थे व्यापारी, सब्ज़ी बेचने से रोकने के लिए पहुंचा था प्रशासनिक अमला, सब्ज़ी व्यापारियों ने बस्ती वालों के साथ मिलकर प्रशासन को खदेड़ा

Updated: May 10, 2021, 04:48 PM IST

सिंगरौली में प्रशासन और सब्जी व्यापारियों के बीच हुई झड़प, पत्थरबाजी कर प्रशासनिक टीम को खदेड़ा

सिंगरौली। सिंगरौली के हिर्वाह बस्ती में सब्ज़ी व्यापारियों और प्रशासनिक टीम के बीच झड़प हो गई। सब्ज़ी व्यापारियों ने बस्ती वालों के साथ मिलकर पूरी प्रशासनिक टीम को खदेड़ दिया। प्रशासनिक टीम को खदेड़ने के लिए लोगों ने पत्थर बरसाने शुरु कर दिए। जिसके बाद पूरा प्रशासनिक अमला भाग खड़ा हुआ। 

सोमवार सुबह सिंगरौली के कोतवाली थाना क्षेत्र के अंतर्गत आने वाली हिर्वाह बस्ती के पास सब्ज़ी बेचे जाने की सूचना मिलने पर प्रशासनिक टीम पहुंची थी। नगर निगम ने पुलिस को बताया था कि हिर्वाह बस्ती के पास रिलायंस कन्वेयर बेल्ट के नीचे कुछ लोग कोरोना के नियमों का उल्लंघन कर सब्ज़ी बेच रहे हैं। नगर निगम की टीम द्वारा सूचना मिलने पर पुलिस की एक टीम नगर निगम के कुछ अधिकारियों को अपने साथ लेकर मौके पर पहुंची थी।

सुबह करीब 10.30 बजे जब प्रशासनिक टीम ने मौके पर पहुंच कर सख्ती दिखानी शुरू की तब वहां सब्ज़ी बेच रहे लोगों ने जवाब में अपने हाथों में पत्थर उठा लिए। जब पुलिस की टीम ने और सख्ती दिखाई तब वहां मौजूद लोगों ने शोर मचाना शुरू कर दिया। लोगों का शोर सुनकर हिर्वाह बस्ती में रहने वाले लोग भी पहुंच गए। इसके बाद प्रशासनिक टीम पर पत्थरबाजी शुरू हो गई। 

लोगों के आक्रोश को देखते हुए कार्रवाई करने आई प्रशासनिक टीम उल्टे पांव लौट गई। आधे दर्जन काफिले में आया पूरा प्रशासनिक अमला कोतवाली थाना पहुंचा और वरिष्ठ अधिकारियों को इस पूरे घटनाक्रम की जानकारी दी गई। फिलहाल पुलिस के आला अधिकारी इस स्थिति से निपटने की योजना तैयार कर रहे हैं।

दूसरी तरफ इस पार्क घटनाक्रम का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है। वीडियो के वायरल होने के बाद अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अनिल सोनकर शांति बनाए रखने की अपील की है। अनिल सोनकर का कहना है कि मामले के दोषियों पर महामारी एक्ट के तहत कार्रवाई की जाएगी। प्राप्त जानकारी के अनुसार लोगों के आक्रोश का शिकार पुलिसकर्मियों ने बताया है कि प्रशासनिक टीम पर हमला करने वाले ज़्यादातर लोग सब्ज़ी बेचने वाले थे। ग्रामीणों को प्रशासनिक टीम की कार्रवाई से कोई दिक्कत नहीं थी।