Gujrat: ब्राह्मणवाद के विरोध में पोस्ट करने पर दलित वकील की हत्या

BAMCEF: गुजरात के कच्छ में बामसेफ के नेता भी थे मृतक वकील देवजी, दिनदहाड़े हत्या के बाद दलित समुदाय में गुस्सा, फरार आरोपी मुंबई में पकड़ा गया, मामले में 9 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज

Updated: Sep 27, 2020 02:13 PM IST

Gujrat: ब्राह्मणवाद के विरोध में पोस्ट करने पर दलित वकील की हत्या
Photo Courtesy: aaj tak

गुजरात में कच्छ जिले के रापर शहर के बीच बाजार में एक वकील की चाकू मारकर हत्या कर दी गई। रापर के विधायक के ऑफिस के नीचे ही वकील देवजी माहेश्वरी पर एक युवक ने चाकू से हमला किया था। आरोपी को मुंबई के मलाड वेस्ट में गिरफ़्तार किया गया है। मृतक देवजी माहेश्वरी वकील होने के साथ-साथ ऑल इंडिया बैकवर्ड एंड माइनॉरिटी कम्युनिटी इम्प्लॉयज फेडरेशनन (बामसेफ) के वरिष्ठ कार्यकर्ता थे। आरोपी का नाम भरत रावल है।

बताया जा रहा है कि देवजी माहेश्वरी अपने सोशल मीडिया पर ब्राह्णणवाद की आलोचना करने वाली पोस्ट डालते थे। यह बात रावल को पसंद नहीं थी। रावल ने कई बार महेश्वरी को धमकाया भी था। दोनों एक ही गांव रापड़ के निवासी थे। 

माहेश्वरी ने फेसबुक पर अपनी आखिरी पोस्ट में बामसेफ के राष्ट्रीय अध्यक्ष वमन मेश्राम का एक वीडियो शेयर किया था, जिसमें मेश्राम यह कहते हुए नजर आ रहे हैं कि अनुसूचित जाति, जनजाति और दूसरे पिछड़े समुदाय के लोग हिंदू नहीं हैं। 

मुंबई पुलिस ने बताया कि देवजी माहेश्वरी की हत्या करने के उद्देश्य से रावल मलाड से रापड़ गया। पुलिस ने कहा कि सीसीटीवी फुटेज में यह देखा जा सकता है कि देवजी माहेश्वरी 25 सितंबर को शाम 6 बजे अपने ऑफिस में जा रहे हैं, उनके पीछे लाल टीशर्ट पहने व्यक्ति भी उनके ऑफिस में घुसता है। कुछ ही देर बाद लाल टीशर्ट पहना हुआ व्यक्ति ऑफिस से भागता हुआ बाहर आता है। 

पुलिस ने बताया कि सीसीटीवी के आधार पर आरोपी की पहचान भरत रावल के रूप में हुई और उसके ऊपर हत्या की धारा के साथ-साथ एससी/एसटी एक्ट के तहत भी मामला दर्ज किया गया है। गुजरात पुलिस ने इस मामले में 9 आरोपियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। पुलिस को यह कदम तब उठाना पड़ा, जब देवजी माहेश्वरी की हत्या के विरोध में दलित समुदाय के लोगों प्रदर्शन किया। 9 आरोपियों में से 5 को गिरफ्तार किया जा चुका है। 

ClicK: गुजरात सीएम का झूठ कोरोना मरीजों की जान पर भारी!

दूसरी तरफ पुलिस की जांच पर सवाल उठाते हुए बहुजन मुक्ति पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष वीएल मतांग ने इस मामले में सीबीआई जांच की मांग की है। उन्होंने इस संबंध में प्रधानमंत्री मोदी को पत्र भी लिखा है। 

वहीं देवजी माहेश्वरी के परिजनों का कहना है कि वे उनके शव को तब ही स्वीकार करेंगे जब सभी 9 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। रावल के अलावा एफआईआर में जयकुश लुहार, खीमजी लुहार, धवल लुहार, देवूभा सोढा, विजयसिंह सोढा, मयूरसिंह सोढा, प्रवीण सिंह सोढा और अर्जनसिंह सोढा के नाम हैं।