आज हमेशा के लिए बुझा दी जाएगी अमर ज्योति, राहुल बोले हम सैनिकों के लिए फिर जलाएंगे

शहीद सैनिकों की याद में पिछले 50 वर्षों से जल रही अमर जवान ज्योति को आज बुझा दिया जाएगा, इसे नेशनल वॉर मेमोरियल में शिफ्ट किया जाएगा, केंद्र सरकार के इस फैसला का पुरजोर विरोध हो रहा है

Updated: Jan 21, 2022, 05:51 PM IST

आज हमेशा के लिए बुझा दी जाएगी अमर ज्योति, राहुल बोले हम सैनिकों के लिए फिर जलाएंगे
Photo Source: Pib.gov.in

नई दिल्ली। शहीद सैनिकों की याद में पिछले 50 वर्षों से जल रही अमर जवान ज्योति आज बुझ जाएगी। राजधानी दिल्ली के इंडिया गेट पर जलने वाली अमर जवान ज्योति को वहां से हटाकर नेशनल वॉर मेमोरियल में शिफ्ट कर दिया जाएगा। केंद्र सरकार के इस फैसले का पुरजोर विरोध हो रहा है। राहुल गांधी ने केंद्र सरकार के इस फैसले का विरोध करते हुए कहा है कि इंडिया गेट पर सैनिकों के लिए एक बार फिर अमर जवान ज्योति को जलाया जाएगा। 

कुछ लोग देश प्रेम बलिदान नहीं समझ सकते 

कांग्रेस नेता ने अपने ट्विटर हैंडल पर केंद्र सरकार के फैसले को अफसोसनाक करार देते हुए कहा कि बहुत दुख की बात है कि हमारे वीर जवानों के लिए जो ज्योति जलती थी, आज उसे बुझा दिया जाएगा। राहुल गांधी ने केंद्र सरकार और बीजेपी पर हमला बोलते हुए कहा कि कुछ लोग देश प्रेम और बलिदान समझ ही नहीं सकते। 

राहुल गांधी ने आगे कहा कि कुछ लोग देश प्रेम और बलिदान नहीं समझ सकते कोई बात नहीं। राहुल गांधी ने आश्वासन देते हुए कहा कि हम अपने सैनिकों के लिए अमर जवान ज्योति एक बार फिर जलाएंगे। 

यह भी पढ़ें : मुख्यमंत्री से मिलने का समय माँगा तो तैनात की पुलिस, दिग्विजय सिंह के आवास पर सुरक्षाकर्मियों का जमावड़ा

अमर जवान ज्योति पिछले 50 वर्षों से जलती आ रही थी। 1971 में पाकिस्तान को हराने के बाद तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने युद्ध में शहीद हुए लगभग 3800 सैनिकों की याद में अमर जवान ज्योति जलाने का फैसला किया था। 26 जनवरी 1972 को गणतंत्र दिवस के अवसर पर तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने अमर ज्योति का उद्घाटन किया था। 

यह भी पढ़ें : अगर औषधि है तो लिया करें, शराब को औषधि बताने वाली प्रज्ञा ठाकुर के बयान पर दिग्विजय सिंह का जवाब

इसके बाद से ही यह परंपरा अनवरत चली आ रही थी। हर गणतंत्र दिवस पर देश के राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, तीनों सेनाओं के प्रमुख सहित अन्य गणमान्य हस्तियां अमर जवान ज्योति पर माल्यार्पण कर देश के लिए शहीद हुए जवानों को श्रद्धांजलि दिया करते थे। लेकिन अब यह परंपरा खत्म हो जाएगी।