अपने ही योग केंद्रों को नहीं बचा पाए बाबा रामदेव, 39 लोग हुए कोविड पॉज़िटिव

हरिद्वार स्थित बाबा रामदेव के योग केंद्रों पतंजलि योगपीठ, आचार्यकुलम और योग ग्राम में कुल 39 लोगों की कोरोना रिपोर्ट पॉज़िटिव आई है

Updated: Apr 20, 2021, 10:33 AM IST

अपने ही योग केंद्रों को नहीं बचा पाए बाबा रामदेव, 39 लोग हुए कोविड पॉज़िटिव
Photo Courtesy: DNA India

नई दिल्ली/देहरादून। योग गुरु बाबा रामदेव के योग केंद्रों तक कोरोना वायरस ने दस्तक दे दी है। हरिद्वार स्थित बाबा रामदेव के योग केंद्रों पर कोरोना के 39 मरीज़ मिले हैं। योग केंद्रों पर इन सभी लोगों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। खुद हरिद्वार के सीएमएचओ ने इसकी जानकारी दी है। 

यह भी पढ़ें : एमपी हाई कोर्ट ने शिवराज सरकार को लगाई फटकार, कहा, कोरोना को नियंत्रित करने के लिए सरकार उठाए सख्त कदम, हम मूकदर्शक बन कर नहीं रह सकते

हरिद्वार स्थित बाबा रामदेव के तीन योग केंद्रों पर कोरोना पहुंच गया है। इन केंद्रों में पतंजलि योगपीठ, आचार्यकुलम और योग ग्राम शामिल हैं। योगपीठ में 10, आचार्यकुलम में 9 और योग ग्राम में कुल 20 लोग कोरोना से संक्रमित पाए गए हैं। चूंकि बाबा रामदेव अमूमन टीवी चैनलों पर कोरोना को योग से भगाने के नुस्खे बताते रहते हैं, ऐसे में उनके खुद के योग केंद्रों पर कोरोना के आगमन के बाद सोशल मीडिया पर लोग बाबा रामदेव की जमकर खिंचाई कर रहे हैं। 

कोरोना महामारी के आगमन के बाद से ही बाबा रामदेव लगातार सुर्खियों में रहे हैं। सबसे बड़ा विवाद उनकी दवा कोरोनिल को लेकर हुआ है। रामदेव का दावा है कि उनकी दवा कोरोना पर काबू पाने में कारगर है। रामदेव की इस दवा को लेकर खुद केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री भी आलोचना का शिकार हो चुके हैं। 

यह भी पढ़ें : Digvijaya Singh: कोरोनिल के भ्रामक प्रचार में शामिल होने पर जवाब दें हर्षवर्धन, IMA ने मांगी है सफाई

दरअसल फरवरी महीने में बाबा रामदेव ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित की थी। जिसमें केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन और केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी शामिल थे। दोनों ही मंत्रियों की मौजूदगी में बाबा रामदेव ने एक झूठ प्रचारित करते हुए कहा कि उनकी दवा WHO द्वारा प्रमाणित है। और 158 देशों में इस दवा के ट्रायल की अनुमति भी मिल चुकी है। 

बाबा रामदेव के इस भ्रामक दावे के तुरंत बाद ही WHO ने रामदेव के दावे को खारिज कर दिया। इसके बाद इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने भी डॉ हर्षवर्धन से भी उस कार्यक्रम में मौजूद रहने की आलोचना की थी और साथ ही हर्षवर्धन से उस कार्यक्रम में मौजूदगी और भ्रामक प्रचार में रामदेव का साथ देने के लिए जवाब भी मांगा था।