अपराधी को पकड़ने गई पुलिस पर बीजेपी नेताओं ने किया हमला, अपराधियों को पुलिस की गिरफ्त से भगाया

उत्तर प्रदेश के कानपुर के नौबस्ता थाना क्षेत्र का मामला, उस्मानपुर से अपराधी मनोज सिंह को गिरफ्तार कर ले जा रही थी पुलिस, बीजेपी के ज़िला सचिव नारायण भदौरिया और बीजेपी नेता के समर्थकों ने पुलिस की टीम पर कर दिया हमला, नारायण भदौरिया का करीबी है अपराधी

Updated: Jun 02, 2021, 08:05 PM IST

अपराधी को पकड़ने गई पुलिस पर बीजेपी नेताओं ने किया हमला, अपराधियों को पुलिस की गिरफ्त से भगाया

कानपुर। उत्तर प्रदेश के कानपुर में बीजेपी नेताओं की पुलिस के साथ गुंडई सामने आई है। आरोप है कि बीजेपी के नेता ने अपराधी को बचाने के लिए पुलिस पर हमला करा दिया। पुलिस की जीप पर हुए हमले के हो हल्ले में अपराधी उसकी चंगुल से भाग निकले। यह वाकया कानपुर के नौबस्ता थाना क्षेत्र में हुआ।

दरअसल पुलिस उस्मानपुर में अपराधी मनोज सिंह को गिरफ्तार करने गई थी। मनोज सिंह और उसके दो अन्य साथियों को गिरफ्तार कर पुलिस थाने ले जा रही थी। लेकिन रास्ते में ही बीजेपी के कानपुर ज़िले के सचिव नारायण भदौरिया ने अपने समर्थकों के साथ पुलिस के काफिले पर हमला बोल दिया। 

नारायण भदौरिया ने अपने समर्थकों के साथ पुलिस के टीम के साथ पहले हाथापाई की, फिर जीप को रोकने के लिए भदौरिया और उनके समर्थक जीप के सामने लेट गए। इसी बीच अपराधी मनोज सिंह वहां से फरार हो गया। अपराधी मनोज सिंह नारायण भदौरिया का करीबी माना जाता है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक मनोज सिंह के ऊपर अपराध के काफी संगीन मामले दर्ज हैं। हाल ही में उसे नारायण भदौरिया के घर एक जलसे में भी देखा गया था। 

राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हाल ही में प्रदेश में अपराधियों की कमर तोड़ने के लिए पुलिस को खुली छूट देने की बात कही थी, लेकिन यहां तो उनकी ही पार्टी के कार्यकर्ता सीएम के आदेशों का मखौल उड़ा रहे हैं और पुलिस बेबस नजर आ रही है। यहां तक कि जिस नारायण भदौरिया पर मनोज सिंह को बचाने का आरोप है, वो खुद कई संगीन आरोपो में धारा 307, 308 के आरोपी बताए गए हैं।