योगी सरकार में दर्जा प्राप्त मंत्री ने हरदीप पुरी को लिखा पत्र, तेल की कीमतों के कारण पनप रहा है जानता में आक्रोश

उत्तर प्रदेश के श्रम कल्याण परिषद के अध्यक्ष सुनील भराला ने केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री हरदीप पुरी को इस सिलसिले में पत्र लिखा है, जिसमें भराला ने बताया है कि लगातार बढ़ते पेट्रोल डीजल के दामों के कारण जनता के बीच मोदी सरकार की लोकप्रियता में गिरावट आ रही है

Publish: Nov 03, 2021, 09:19 AM IST

योगी सरकार में दर्जा प्राप्त मंत्री ने हरदीप पुरी को लिखा पत्र, तेल की कीमतों के कारण पनप रहा है जानता में आक्रोश
Photo Courtesy: The Wire

लखनऊ। लगातार बढ़ती महंगाई को लेकर अब बीजेपी के भीतर से भी आवाज़ें उठने लगी हैं। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार में दर्जा प्राप्त मंत्री सुनील भराला ने केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री हरदीप पुरी को पत्र लिखा है। जिसमें उन्होंने पेट्रोल डीजल के दामों में स्थिरता लाने की मांग की है। 

सुनील भराला ने हरदीप पुरी को लिखे अपने पत्र में बताया है कि लगातार बढ़ते तेल के दामों के कारण जनता के मन में आक्रोश बढ़ रहा है। बीजेपी नेता ने केंद्रीय मंत्री से अपने पत्र में कहा है कि जनता के मन में आक्रोश बढ़ने के साथ साथ उनके क्षेत्र में मोदी सरकार को लोकप्रियता में भी गिरावट आ रही है। 

भराला ने अपने पत्र में हरदीप पुरी को लिखा है कि पिछले डेढ़ वर्षों में पेट्रोल की कीमतों में 36 रुपए का इजाफा हुआ है, जबकि डीजल की कीमतों में 27 रुपए की वृद्धि हुई है। भाजपा नेता ने आगे कहा है कि पेट्रोल डीजल की कीमतों में दैनिक रूप से वृद्धि होने के कारण माल ढुलाई व यातायात भी महंगा हो रहा है। 

भाजपा नेता ने केंद्रीय मंत्री को लिखे अपने पत्र में तेल की बढ़ी कीमतों के पीछे बड़ी वजह पेट्रोल डीजल पर लगने वाली जीएसटी और एक्साइज ड्यूटी को बताया है। भराला ने केंद्रीय मंत्री से कहा है कि भारत सरकार द्वारा गरीब वर्ग के लोगों के लिए चलाई जा रही योजनाओं से जो लोकप्रियता प्राप्त हो रही है, पेट्रोल डीजल की बढ़ती कीमतों के कारण उसमें कमी आ रही है। 

बीजेपी सांसद वरुण गांधी के बाद सुनील भराला दूसरे ऐसे भाजपा नेता हैं, जिन्होंने बीजेपी सरकार की कार्यशैली कर सवाल उठाए हैं। एक अंग्रेजी वेब पोर्टल ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया है कि जब उसने इस पत्र के सिलसिले में सुनील भराला से बात की तब उन्होंने बताया कि पेट्रोल डीजल के बढ़े दामों ने जनता और खासकर किसानों के बीच बीजेपी के खिलाफ आक्रोश को बढ़ा दिया है।