पश्चिम बंगाल के मंत्री और टीएमसी नेता जाकिर हुसैन पर क्रूड बम से हमला, अस्पताल में भर्ती

ममता बनर्जी की सरकार में श्रम राज्यमंत्री जाकिर हुसैन पर मुर्शिदाबाद के निमटिटा रेलवे स्टेशन पर हुआ हमला, मंत्री समेत 7 अन्य लोग गंभीर रूप से जख्मी, इलाज के लिए कोलकाता शिफ्ट किया गया

Updated: Feb 18, 2021, 11:57 AM IST

पश्चिम बंगाल के मंत्री और टीएमसी नेता जाकिर हुसैन पर क्रूड बम से हमला, अस्पताल में भर्ती
Photo Courtesy: Aajtak

मुर्शिदाबाद। पश्चिम बंगाल की ममता सरकार के श्रम राज्य मंत्री और टीएमसी नेता जाकिर हुसैन पर बम से हमला हुआ है। इस जानलेवा हमले में मंत्री समेत 7 अन्य लोग गंभीर रूप से घायल हो गए हैं। डॉक्टरों ने बताया है कि फिलहाल हुसैन खतरे से बाहर हैं। जाकिर हुसैन को बेहतर इलाज के लिए कोलकाता के SSKM अस्पताल में शिफ्ट किया गया है। 

बताया जा रहा है कि राज्यसरकार में श्रम राज्य मंत्री जाकिर हुसैन बुधवार की रात मुर्शिदाबाद जिले में निमटीटा रेलवे स्टेशन पर कोलकाता जाने वाली ट्रेन पकड़ने के लिए जा रहे थे कि तभी अज्ञात हमलवारों ने मंत्री पर बम से हमला किया। अपराधियों के बारे में फिलहाल जानकारी नहीं मिल पाई है, लेकिन घटना का एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। वायरल वीडियो में देखा जा सकता है कि मंत्री अपने सुरक्षाकर्मियों के साथ स्टेशन की ओर जा रहे थे कि तभी पीछे से अचानक धमाका होता है और चिल्लाने की आवाजें आती हैं। 

प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक जैसे ही हुसैन अपनी गाड़ी से उतरकर प्लेटफार्म की ओर बढ़े ठीक उसी वक़्त यह घटना क्रूड बम हमला हुआ। इस हमले में उनके साथ चल रहे मुर्शिदाबाद के जंगीपुर विधानसभा के विधायक और कुछ अन्य लोग भी गंभीर रूप से घायल हैं। पुलिस ने बताया कि सभी को जंगीपुर सुपरस्पेशियलिटी हॉस्पिटल ले जाया गया, जहां से हुसैन को मुर्शिदाबाद मेडिकल कॉलेज और फिर वहां से कोलकाता रेफर कर दिया गया।

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने इस घटना की निंदा की है। उन्होंने ट्वीट किया है कि मुर्शिदाबाद जिले के निमटीटा रेलवे स्टेशन पर मंत्री जी पर हुए हमले की निंदा करता हूं। इस  घटना से चिंतित हूं, लोकतंत्र में हिंसा का कोई स्थान नहीं है।' 

उधर कोलकाता के फूल बगान में बीजेपी और टीएमसी कार्यकर्ताओं में भिड़ंत की खबर है। जानकारी के मुताबिक तृणमूल से बगावत कर बीजेपी में गए शुभेंदु अधिकारी फूलबागान एरिया में डिप्टी कमिश्नर के कार्यालय की तरफ मार्च कर रहे थे। इस दौरान टीएमसी के लोगों ने नारेबाजी शुरू कर दी। नारेबाजी से शुरू होकर यह मामला ईंट और पत्थर तक पहुंच गया। पथराव में दोनों पक्ष के लोगों को मामूली चोटें आई है।