Digvijaya Singh: मोदी भक्त ज़रूर पढ़ें स्वामी विवेकानंद के यह विचार

National Youth Day: दिग्विजय सिंह ने स्वामी विवेकानंद के उन विचारों की याद दिलाई है, जिन्हें उनका नाम लेकर नफरत की सियासत करने वाले या तो जानते नहीं या जानबूझकर भूल जाते हैं

Updated: Jan 12, 2021, 04:52 PM IST

Digvijaya Singh: मोदी भक्त ज़रूर पढ़ें स्वामी विवेकानंद के यह विचार
Photo Courtesy: Haribhoomi

स्वामी विवेकानंद की जयंती को आज देश में राष्ट्रीय युवा दिवस के तौर पर मनाया जा रहा है। इस मौक़े पर मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने स्वामी विवेकानंद के विचारों के ज़रिये लोगों को आपसी सद्भाव के रास्ते पर चलने और नफ़रत की सियासत से बचने का संदेश दिया है। दिग्विजय सिंह ने स्वामी विवेकानंद के विश्व बंधुत्व से भरे विचारों की याद दिलाते हुए कहा है कि मोदी भक्तों और विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ताओं को स्वामी जी के यह विचार ज़रूर पढ़ने चाहिए। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने आज देश के महान संत और दार्शनिक को याद करते हुए कई ट्वीट किए हैं, जिनमें स्वामी विवेकानंद के विचारों की झलक मिलती है।

दिग्विजय सिंह ने स्वामी विवेकानंद को श्रद्धांजलि देते हुए लिखा है,“ भारतीय संस्कृति को विश्व पटल पर पहचान दिलाने वाले महान देशभक्त, वक्ता, विचारक, लेखक स्वामी विवेकानंद जी की जयंती पर सादर नमन व युवा दिवस की सभी को हार्दिक बधाई।” उन्होंने आगे लिखा है, स्वामी विवेकानंद की कही कुछ ऐसी बातें हैं, जो हमारे मोदी भक्तों और वीएचपी कार्यकर्ताओं को अवश्य जाननी चाहिए: " मैं मुसलमानों की मस्जिद में जाऊँगा, मैं ईसा मसीह के क्रॉस को नमन करूँगा, मैं बुद्ध की शरण में जाऊँगा और मैं हिंदुओं के साथ ध्यान लगाऊँगा। हम न सिर्फ़ सार्वभौमिक सहिष्णुता में विश्वास रखते हैं, बल्कि सभी धर्मों के सत्य को स्वीकार करते हैं।”

इसके आगे दिग्विजय सिंह ने शिकागो की विश्व धर्म संसद में दिए स्वामी विवेकानंद के मशहूर भाषण की याद भी दिलाई है। उन्होंने लिखा है, “शिकागो के अपने भाषण का अंत स्वामी विवेकानंद ने इन शब्दों में किया था : कलह नहीं, बल्कि सद्भाव और शांति ही सभी धर्मों का सार तत्व होना चाहिए।”

 

यह भी पढ़ें: Swami Vivekananda: वे रोटी मांगते हैं, हम पत्थर पकड़ा देते हैं, स्वामी विवेकानंद जयंती पर पढ़ें उनके विचार

स्वामी विवेकानंद जयंती पर उनके विचारों को कांग्रेस के कई अन्य नेताओं ने भी याद किया है। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भी स्वामी विवेकानंद जयंती पर उन्हें श्रद्धांजलि देते हुए लिखा है, “महान आध्यामिक गुरु, दार्शनिक और द्रष्टा स्वामी विवेकानंद की जयंती पर उन्हें नमन। इस दिन को हम राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाते हैं। उनके विचार और आदर्श युवाओं को दृढ़ निश्चय और सकारात्मक ऊर्जा के साथ अपने जीवन में उच्चतम लक्ष्यों को हासिल करने की प्रेरणा देते हैं।”

गहलोत ने आगे लिखा है, “सभी नौजवानों को राष्ट्रीय युवा दिवस की बधाई। स्वामी विवेकानंद को समाज में सकारात्मक बदलाव लाने की युवाओं की ज़बरदस्त क्षमता पर गहरा विश्वास था। युवा लोग अपनी ऊर्जा, उत्साह और समझदारी से पूरे समाज की भलाई के लिए बड़ा योगदान कर सकते हैं।”

 

 

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने भी राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाई जा रही स्वामी विवेकानंद जयंती पर उन्हें श्रद्धांजलि दी है। उन्होंने कहा है कि स्वामी विवेकानंद ने भारत की समृद्ध विरासत के गौरव की याद दिलाते हुए देश में नई ऊर्जा और प्रेरणा का संचार किया। मेरी सरकार अच्छी शिक्षा और युवाओं के बेहतर भविष्य को सर्वोच्च प्राथमिकता देती है। यही स्वामी जी के प्रति हमारी सच्ची श्रद्धांजलि है।