ED ने फारूक अब्दुल्ला की 12 करोड़ की संपत्ति जब्त की, बेटे उमर ने कहा पैतृक संपत्ति भी अटैच की गई

ईडी का जम्मू-कश्मीर क्रिकेट एसोसिएशन स्कैम केस में कार्रवाई का दावा, नेशनल कॉन्फ्रेंस ने बताया बदले की कार्रवाई

Updated: Dec 20, 2020, 03:38 AM IST

ED ने फारूक अब्दुल्ला की 12 करोड़ की संपत्ति जब्त की, बेटे उमर ने कहा पैतृक संपत्ति भी अटैच की गई
Photo Courtesy : India TV

श्रीनगर। जम्मू और कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय ने बड़ी कार्रवाई की है। प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने फारूक अब्दुल्ला और अन्य की 11.86 करोड़ रुपये मूल्य की संपत्ति जब्त कर ली है। ED का दावा है कि ये कार्रवाई जम्मू-कश्मीर क्रिकेट एसोसिएशन (JKCA) स्कैम के केस से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में की गई है। लेकिन प्रवर्तन निदेशालय की ओर से की गई कार्रवाई को नेशनल कॉन्फ्रेंस ने राजनीतिक बदले से प्रेरित बताया है।

फारूक अब्दुल्ला के बेटे और जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने कहा कि ईडी की कार्रवाई का कोई औचित्य नहीं है, क्योंकि जब्त की गई ज़्यादातर संपत्तियां उनकी पैतृक जायदाद का हिस्सा हैं। उन्होंने प्रवर्तन निदेशालय की इस कार्रवाई को अदालत में चुनौती देने की बात भी कही है। अब्दुल्ला की पार्टी नेशनल क़ॉन्फ्रेंस ने इसे राजनीतिक बदले की कार्रवाई करार देते हुए कहा है कि बीजेपी राज्य के दलों के बीच बने गठबंधन का राजनीतिक तौर पर मुकाबला नहीं कर सकती इसलिए मोदी सरकार अपनी एजेंसियों का इस्तेमाल करके राज्य के नए सियासी समीकरणों को तोड़ना चाहती है।

जब्त संपत्तियों का बाजार मूल्य करीब 70 करोड़ रुपये

अब तक सामने आई जानकारी के मुताबिक प्रवर्तन निदेशालय ने फारूक अब्दुल्ला की जो संपत्तियां जब्त की है, उनमें तीन मक़ान भी शामिल है। इसमें एक घर गुपकार रोड, दूसरा तहसील कटिपोरा, तन्मर्ग, और तीसरा भटंडी जम्मू में में होना बताया गया है।

निदेशालय का कहना है कि जिन प्रॉपर्टीज़ को ज़ब्त किया गया है, उनमें दो आवासीय अचल संपत्तियां, एक व्यावसायिक संपत्ति और तीन ज़मीन के प्लॉट शामिल हैं। इनके अलावा कुछ और भूखंडों को भी अटैच किया गया है। निदेशालय के अफ़सरों के मुताबिक इन संपत्तियों की जब्त कीमत तो 11.86 करोड़ रुपये ही है, लेकिन इनका बाजार मूल्य लगभग 60-70 करोड़ रुपये है।

प्रवर्तन निदेशालय ने संपत्तियां जब्त करने की इस कार्रवाई को जम्मू-कश्मीर क्रिकेट संघ में कथित वित्तीय गड़बड़ियों से जुड़ी मनी लॉन्ड्रिंग की जांच से जुड़ा हुआ बताया है। 83 साल के नेशनल कॉन्फ्रेंस अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला से इस मामले में प्रवर्तन निदेशालय कई बार पूछताछ कर चुका है। ईडी ने उनसे आखिरी बार पूछताछ अक्टूबर के महीने में श्रीनगर में की थी।