देश में सरकारी तालिबान का हो चुका है कब्ज़ा, किसानों पर हुए लाठीचार्ज के बाद राकेश टिकैत ने बोला हमला

राकेश टिकैत ने कहा कि सरकारी तालिबान के कमांडर भी मौजूद हैं, जो सिर फोड़ने का आदेश देते हैं

Updated: Aug 29, 2021, 06:24 PM IST

देश में सरकारी तालिबान का हो चुका है कब्ज़ा, किसानों पर हुए लाठीचार्ज के बाद राकेश टिकैत ने बोला हमला

नई दिल्ली। शनिवार को हरियाणा के करनाल में किसानों के ऊपर ढाई गई बर्बरता के खिलाफ किसान नेता राकेश टिकैत ने मोर्चा खोल दिया है। राकेश टिकैत ने सीधे तौर पर कहा है कि देश में अब सरकारी तालिबान का कब्जा हो चुका है। इतना ही नहीं, टिकैत ने कहा है कि इनके कमांडर भी हर जगह मौजूद हैं। राकेश टिकैत का इशारा किसानों का सिर फोड़ने का आदेश देने वाले अधिकारी की तरफ था। 

राकेश टिकैत ने किसानों पर हुए लाठीचार्ज के सिलसिले में मीडिया से बात करते हुए कहा कि देश में सरकारी तालिबान का कब्जा हो चुका है। देश में सरकारी तालिबान के कमांडर भी जगह जगह मौजूद हैं। किसान नेता ने आगे कहा कि हमें इन कमांडरों की पहचान करनी होगी। टिकैत ने कहा कि सिर फोड़ डालने के आदेश देने वाले भी वही कमांडर हैं। 

शनिवार को हरियाणा के करनाल में पुलिसिया लाठीचार्ज में किसान गंभीर रूप से घायल हो गए। किसान राज्य के सीएम मनोहर लाल खट्टर और प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष ओपी धनखड़ की मौजूदगी में बीजेपी का एक कार्यक्रम हो रहा था। किसान इसी कार्यक्रम स्थल की ओर कूच कर रहे थे कि तभी किसानों और पुलिस में झड़प हो गई। पुलिस ने किसानों के खिलाफ बर्बरता भरा रुख अख्तियार करते हुए उनके सिर फोड़ डाले। किसानों का शरीर लहूलुहान हो गया। इस घटना में कम से कम दस किसान बुरी तरह से जख्मी हो गए। 

यह भी पढ़ें : हरियाणा पुलिस के लाठीचार्ज में किसानों का बहा खून, एसडीएम का था आदेश, सिर फोड़ डालो

इस पूरे घटनाक्रम को लेकर विवाद तब और बढ़ गया जब करनाल के एसडीएम आयुष सिन्हा का किसानों के सिर फोड़ने का आदेश सोशल मीडिया वायरल हो गया। वायरल वीडियो में आयुष सिन्हा पुलिस के जवानों को यह आदेश देते हुए सुनाई दे रहे थे कि जो कोई भी प्रदर्शनकारी इस जगह पर पहुंचने की कोशिश करता है, उसका सिर फोड़ देना। 

एसडीएम के इस आदेश के सामने आने के बाद विपक्षी दल के तमाम नेता सीएम खट्टर और उनकी सरकार पर किसानों के खिलाफ षड्यंत्र रचने का आरोप लगाने लगे। खुद बीजेपी के ही नेता वरुण गांधी ने एसडीएम के आदेश को साझा करते हुए इसे लोकतांत्रिक मूल्यों के खिलाफ बताया।