नागपुर में 31 मार्च तक बढ़ा लॉकडाउन, मुंबई में भीड़भाड़ वाले इलाकों में होगा एंटीजन टेस्ट

कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच सख्त हुई महाराष्ट्र सरकार, मुंबई में भीड़भाड़ वाली जगहों पर एंटीजन टेस्ट कराना अनिवार्य, टेस्ट नहीं कराने पर दर्ज होगी केस, जारी हु़ई नए गाइडलाइंस

Updated: Mar 20, 2021, 08:08 PM IST

नागपुर में 31 मार्च तक बढ़ा लॉकडाउन, मुंबई में भीड़भाड़ वाले इलाकों में होगा एंटीजन टेस्ट
Photo Courtesy : Bhaskar

मुंबई। महाराष्ट्र में कोरोना वायरस संक्रमण के लगातार बढ़ रहे मामले राज्य सरकार के लिए सरदर्द बन गए हैं। कोरोना के कहर को देखते हुए सरकार ने नागपुर में लॉकडाउन को 10 दिनों के लिए और बढ़ा दिया है। सरकार के इस फैसले के बाद नागपुर के बस अड्डों पर प्रवासी मजदूरों की भीड़ जुटने लगी है। उधर राजधानी मुंबई में भी कोरोना का कहर बदस्तूर जारी है। मुंबई में बीएमसी ने चौक चौराहों पर रैंडम एंटीजन टेस्ट कराने का फैसला लिया है।

नागपुर के गॉर्डियन मिनिस्टर नितिन राउत ने लॉकडाउन बढ़ाने का ऐलान करने हुए कहा कि कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों की वजह से नागपुर में पाबंदियां 31 मार्च तक जारी रहेंगी। इस दौरान सब्जियों समेत अन्य आवश्यक दुकानें शाम चार बजे तक खुली रहेंगी। बता दें कि पहले यह लॉकडाउन 21 मार्च तक लगाया गया था।

लॉकडाउन बढ़ाए जाने की चर्चाएं पहले से होने की वजह से नागपुर के बस अड्डों पर पहले की तरह प्रवासी मजदूरों की भीड़ जुटने लगी है। मजदूरों को बस निलंबन की जानकारी नहीं होने के वजह से वे घर जाने की आस में बस अड्डे पर इकट्ठे हो गए हैं। शुक्रवार को 25,681 नए मामले दर्ज किए गए। इसके साथ ही कुल पॉजिटिव केस बढ़कर 24,22,021 हो गए हैं।

यह भी पढ़ें: आदित्य ठाकरे को हुआ कोरोना

इस बीच, राजधानी मुंबई में बेकाबू हो चुके संक्रमण के मामलों को देखते हुए बीएमसी ने नई गाइडलाइंस जारी की है। बीएमसी कमिश्नर द्वारा जारी आदेश के मुताबिक सरकारी ऑफिसों, बाजारों, पर्यटन स्थल, बस स्टॉप्स, फूड स्ट्रीट्स, शॉपिग मॉल्स, रेल्वे स्टेशन पर रैंडम एंटीजन टेस्ट होगा। भीड़भाड़ वाले इलाके में एंटीजन टेस्ट करते वक्त लोगों की सहमति नहीं ली जाएगी। इतना ही नहीं इस दौरान कोई ‌‌व्यक्ति टेस्ट कराने से मना करता है तो उस पर महामारी कानून के तहत केस भी दर्ज किया जाएगा।

राजधानी के लिए धारावी स्लम भी चिंता का विषय बना हुआ है। एशिया के सबसे बड़े स्लम में इस महीने कोरोना के अब तक 272 नए मामले सामने आ गए हैं। फरवरी में इसकी संख्या 168 ही थी, यानी कि इस महीने संक्रमण के मामलों में 62 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। अधिकारियों ने बताया कि अब जो मामले आ रहे हैं वे 2.5 वर्ग किलोमीटर में फैली इस झुग्गी बस्ती के अलग-अलग इलाकों से हैं, न कि किसी एक जगह से। धारावी में बढ़ रहे कोरोना केस को मुंबई के लिए खतरे की घंटी के तौर पर देखा जा रहा है। 

यह भी पढ़ें: भोपाल, इंदौर और जबलपुर में लॉकडाउन का एलान, 21 मार्च को पूरी तरह बंद रहेंगे तीनों शहर

इन दो शहरों के अलावा नाशिक में भी कोरोना के केस बढ़ रहे हैं। नाशिक में शाम 7 से लेकर सुबह 7 बजे तक सभी दुकानें और प्रतिष्ठान बंद रहेंगे। उधर ठाणे में 31 मार्च तक 16 हॉटस्पॉट्स पर लॉकडाउन लगाया गया है। इसके अलावा उस्मानाबाद में रात 9 से लेकर सुबह 5 बजे तक नाइट कर्फ्यू जारी है। यहां साप्ताहिक बाजार पूरी तरह से बंद रहेंगे और रविवार को कंप्लीट लॉकडाउन रहेगा। पुणे में भी रात 11 बजे से सुबह 6 बजे तक पाबंदियां रहेंगी। शाम के वक्त गार्डन और पार्क बंद रहेंगे। होटल और रेस्त्रां केवल रात 10 बजे तक खुले रहेंगे।

महाराष्ट्र में शुक्रवार को 25,681 लोग कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। पिछले साल इस महामारी के शुरू होने के बाद एक दिन में सामने आये मामलों की यह दूसरी सबसे बड़ी संख्या है। यह संख्या देश में कुल मिले मरीजों का करीब 63% है। महाराष्ट्र में वर्तमान में 1,77,560 मरीजों का इलाज चल रहा है। राज्य में बढ़ती कोरोना महामारी को लेकर पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि देश के दूसरे प्रांतों की तुलना में महाराष्ट्र में कोविड-19 के मामलों में बढ़ोतरी की जांच के लिए विशेषज्ञों की समिति गठित की जानी चाहिए।