ममता बनर्जी ने चुनाव आयोग से की मांग, बंगाल में जल्द हों उपचुनाव

ममता बनर्जी को नंदीग्राम विधानसभा सीट से हार का सामना करना पड़ा था, वे भवानीपुर से चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही हैं

Updated: Aug 23, 2021, 07:21 PM IST

ममता बनर्जी ने चुनाव आयोग से की मांग, बंगाल में जल्द हों उपचुनाव

कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने राज्य में जल्द ही उपचुनाव कराने की मांग की है। ममता बनर्जी ने यह दलील दी है कि चूंकि राज्य में अब कोरोना की स्थिति नियंत्रण में है, इसलिए अब राज्य में उपचुनाव कराए जा सकते हैं। ममता बनर्जी ने कहा है कि लोकतंत्र का तकाज़ा यही कहता है कि राज्य में जल्द ही उपचुनाव की घोषणा होनी चाहिए।  

ममता बनर्जी ने कहा कि पश्चिम बंगाल में अब कोरोना की स्थिति पूरी तरह से नियंत्रण में है। लोगों मतदान करने और विधानसभा में पहुंचने का पूरा अधिकार है। चुनाव आयोग को जल्द ही उपचुनाव की घोषणा करनी चाहिए। क्योंकि हमें लोगों के लोकतांत्रिक अधिकार में कटौती नहीं करनी चाहिए।  

दरअसल ममता बनर्जी को सीएम पद पर बने रहने के लिए जल्द ही सदन का निर्वाचित सदस्य बनना ज़रूरी है। ममता बनर्जी इस समय मुख्यमंत्री की कुर्सी पर काबिज़ हैं, लेकिन वे पश्चिम बंगाल विधानसभा की सदस्य नहीं हैं। मुख्यमंत्री पद पर बने रहने के लिए उन्हें हर हाल में विधानसभा कि किसी सीट पर चुनाव जीतना होगा।  

ममता बनर्जी ने पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के दौरान नंदीग्राम सीट से पर्चा भरा था, जो कि ममता बनर्जी की पारंपरिक सीट नहीं थी। ममता बनर्जी ने इस सीट पर बीजेपी के उम्मीदवार और अपने पुराने साथी शुभेंदु अधिकारी को चुनौती दी थी। लेकिन ममता बनर्जी को शुभेंदु अधिकारी ने 1900 से ज़्यादा के वोटों के अंतर से हरा दिया।  

यह भी पढ़ें ः 3 तीन महीने बाद होगी नंदीग्राम केस की सुनवाई, कलकत्ता HC ने 15 नवंबर तक के लिए टाली सुनवाई

राज्य में सत्ता में तृणमुल कांग्रेस आई और ममता बनर्जी मुख्यमंत्री बनीं। लेकिन अब मुख्यमंत्री बने रहने के लिए उन्हें निर्वाचित होना होगा। इसके लिए तैयारी भी पूरी की जा चुकी है। ममता बनर्जी की पारंपरिक सीट भवानीपुर से चुनाव जीतने वाले टीएमसी के शोभन देव पहले ही इस सीट से इस्तीफा दे चुके हैं। यह लगभग तय माना जा रहा है कि ममता बनर्जी भवानीपुर से ही चुनाव लड़ेंगी। हालांकि कलकत्ता हाई कोर्ट में उन्होंने नंदीग्राम सीट से शुभेंदु अधिकारी के निर्वाचन को भी चुनौती दी हुई। लेकिन उस पर फैसला आने में अभी वक्त लग सकता है। कलकत्ता हाई कोर्ट इस मामले में नवंबर महीने में सुनवाई करने वाली है।