21 जुलाई को राष्ट्रीय राजनीति में उतरेगी TMC, मदन मित्रा का दावा, 2024 में आएगी ममता सरकार

टीएमसी 21 जुलाई को राष्ट्रीय राजनीति में उतरने का एलान करने वाली है, इसके लिए टीएमसी ममता के भाषण को विभिन्न राज्यों के लोगों तक पहुंचाने की योजना बना रही है, ममता के भाषण का प्रसारण ओडिशा, बिहार, उत्तर प्रदेश, त्रिपुरा, पंजाब और असम में किया जाएगा, गुजरात के भी कुछ हिस्सों में ममता के भाषण का प्रसारण किया जाना है

Updated: Jul 20, 2021, 09:07 AM IST

21 जुलाई को राष्ट्रीय राजनीति में उतरेगी TMC, मदन मित्रा का दावा, 2024 में आएगी ममता सरकार

नई दिल्ली/कोलकाता। 21 जुलाई को ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस राष्ट्रीय राजनीति में कदम रखने जा रही है। इस अवसर पर टीएमसी विभिन्न राज्यों में ममता बनर्जी के भाषण के प्रसारण की योजना बना रही है। ममता के इस कार्यक्रम से पहले टीएमसी नेता मदन मित्रा ने यह खुलकर कहा है कि 2024 में दिल्ली में ममता की सरकार बनेगी। 

21 जुलाई को ममता बनर्जी का भाषण उत्तर प्रदेश, पंजाब, पश्चिम बंगाल, ओडिशा, त्रिपुरा और असम में प्रसारित किए जाने की योजना है। प्रधानमंत्री मोदी और गृह मंत्री अमित शाह के गढ़ गुजरात में भी ममता के भाषण को प्रसारित किए जाने की तैयारी है। पश्चिम बंगाल में ममता का भाषण बंगाली भाषा में ही प्रसारित होगा। जबकि अन्य जगहों पर स्थानीय भाषा के अनुसार ममता का भाषण प्रसारित किया जाएगा। इस कार्यक्रम के जरिए टीएमसी और ममता बनर्जी राष्ट्रीय स्तर पर अपना राजनीतिक वजूद तलाशने की कोशिश कर रही हैं।

वहीं दूसरी तरफ ममता के इस कार्यक्रम को लेकर टीएमसी नेता मदन मित्रा ने दावा किया है कि 2024 में दिल्ली में ममता सरकार बनेगी। मदन मित्रा ने ममता के कार्यक्रम को लेकर मीडिया से कहा कि हर जगह बड़ी स्क्रीन लगाई जाएगी, 2024 में ममता सरकार आने वाली है। मदन मित्रा ने अगले साल यूपी में होने वाले विधानसभा चुनावों को लेकर कहा कि बीजेपी उत्तर प्रदेश में चुनाव हारने वाली है। 

यह भी पढ़ें : 25 जुलाई को दिल्ली दौरे पर ममता बनर्जी, सोनिया गांधी समेत विपक्षी नेताओं से करेंगी मुलाकात

ममता बनर्जी 2024 लोकसभा चुनावों के मद्देनजर ही टीएमसी और खुद का राजनीतिक विस्तार करने पर विचार कर रही हैं। बंगाल में बीजेपी का काफिला रोकने के बाद ममता और उनकी पार्टी का आत्मविश्वास इस समय सातवें आसमान पर है। राष्ट्रीय स्तर पर टीएमसी के फैलाव की जिम्मेदारी मुकुल रॉय को सौंपी गई है। वहीं 25 जुलाई को ममता दिल्ली दौरे पर जाने वाली हैं। दिल्ली में ममता कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार और समाजवादी पार्टी नेता अखिलेश यादव सही विपक्ष के कई नेताओं से मुलाकात करने वाली हैं। जिसके कई राजनीतिक मायने भी निकाले जा रहे हैं।