सरकारी नौकरी लगने पर युवक की दबंगों ने कराई जबरन शादी, परिजन मांग रहे न्याय

बिहार के लखीसराय का है मामला, 20 वर्षीय शिवम की 14 जनवरी को है जॉइनिंग, आर्मी में लगी है नौकरी, जांच में जुटी पुलिस

Updated: Jan 08, 2021, 03:24 PM IST

सरकारी नौकरी लगने पर युवक की दबंगों ने कराई जबरन शादी, परिजन मांग रहे न्याय
Photo Courtesy: Social Media

लखीसराय। यदि आप कुंवारे हैं और पास में सरकारी नौकरी है तो अब आप सावधान हो जाइए। खासकर तब जब आप बिहार के रहने वाले हों। दरअसल, बिहार के लखीसराय में सरकारी नौकरी होने पर 'पकड़ौआ ब्याह' का मामला सामने आया है। बताया जा रहा है कि सरकारी नौकरी लगते ही दबंगों ने एक युवक की जबरन शादी करवा दी।

मामला लखीसराय जिले के बड़हिया थाना क्षेत्र का है जहां 20 वर्षीय शिवम सिंह का अपहरण कर ज़बरदस्ती उनकी शादी करवा दी गई। गंगासराय गांव के निवासी मनोज सिंह के इकलौते बेटे शिवम की गलती केवल इतनी ही थी कि उनकी सरकारी नौकरी लग गई थी। अपहृत शिवम का हाल ही में सेना की भर्ती परीक्षा में क्लर्क ग्रेड में चयन हुआ है और 14 जनवरी को उसकी जॉइनिंग है।

शिवम के परिजनों ने बताया कि वह रोज की तरह गुरुवार सुबह दोस्तों के साथ दौड़ने के लिए गया था, तभी रेलवे लाइन के किनारे पांच हथियार बंद दबंगों ने उसे अपने कब्जे में ले लिया। उन्होंने बंदूक की नोक पर शिवम को अपनी आल्टो कार में बैठाया और चलते बने। किडनैपिंग कर उन दबंगों ने बलपूर्वक जमुई के किसी मंदिर में शिवम की शादी करवा दी। घटना तब सबके नज़र में आई जब इस ‛जबरिया शादी’ की तस्वीर सामने आई। बताया जा रहा है कि शिवम का पड़ोस के गांव पहाड़पुर के दबंग मुन्ना सिंह के लोगों ने अपहरण किया था और मुन्ना की ही बेटी से उसकी शादी करवाई गई है।

मामले की जानकारी मिलते ही शिवम के परिजन और गांव के लोग आक्रोशित हो गए। गांव वालों ने इसके विरोध में बगल के एनएच-80 सड़क को जाम कर दिया और धरने पर बैठ गए। इसके बाद एसडीपीओ रंजन कुमार दलबल के साथ घटना स्थल पर पहुंचे और ग्रामीणों को समझा-बुझाकर वहां से हटाया। प्रशासन ने शिवम के परिजनों को उसकी सकुशल वापसी का आश्वासन दिया है। हालांकि, खबर लिखे जाने तक शिवम की कोई जानकारी नहीं मिल पाई है।

क्या होता है पकड़ौआ विवाह

दरअसल, बिहार और पूर्वी उत्तर प्रदेश के कुछ जिलों में पकड़ौआ विवाह यानी जबरिया शादी का पुराना प्रचलन रहा है। आमतौर पर यह नवयुवकों के साथ होता है। इस तरह की शादी में लड़की-वाले इलाके के रसूखदार होते हैं। लड़की वाले पढ़े-लिखे या सरकारी नौकरी वाले लड़कों को ढूंढते हैं। इसके बाद वे घात लगाकर लड़के का अपहरण कराते हैं और फिर डरा-धमका उनका अपने घर व समाज की लड़कियों के साथ विवाह करवा देते हैं। इस दौरान विरोध करने पर लड़के के साथ मारपीट और अन्य तरह की ज़्यादतियां भी की जाती है। बीते कुछ दशकों से ऐसी शादियां काफी कम हो गई हैं फिर भी कभी कभार ऐसे मामले सामने आते रहते हैं।