मोदी जी, बंद कराइए नफरत की राजनीति, 108 पूर्व नौकरशाहों ने प्रधानमंत्री को लिखा खुला खत

पीएम मोदी को संबोधित पत्र में नामचीन पूर्व ब्यूरोक्रेट्स ने लिखा कि हम देश में नफरत से भरे विनाश के हालात देख रहे हैं, जहां सिर्फ मुस्लिम और अल्पसंख्यकों को ही निशाना नहीं बनाया जा रहा है, बल्कि संविधान के साथ खिलवाड़ हो रहा है

Updated: Apr 27, 2022, 09:04 AM IST

मोदी जी, बंद कराइए नफरत की राजनीति, 108 पूर्व नौकरशाहों ने प्रधानमंत्री को लिखा खुला खत
Photo Courtesy: Irishtimes

नई दिल्ली। देश के 100 से अधिक पूर्व नौकरशाहों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर उम्मीद जताई है कि वे ‘नफरत की राजनीति’ को खत्म करने का आह्वान करेंगे। एक खुले पत्र में, उन लोगों ने लिखा है, हम देश में नफरत से भरे विनाश के हालात देख रहे हैं, जहां 
सिर्फ मुस्लिम और अल्पसंख्यकों को ही निशाना नहीं बनाया जा रहा है, बल्कि संविधान के साथ खिलवाड़ हो रहा है।

इस पत्र पर हस्ताक्षर करने वाले 108 ब्यूरोक्रेट्स में दिल्ली के पूर्व उपराज्यपाल नजीब जंग, पूर्व राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार शिवशंकर मेनन, पूर्व विदेश सचिव सुजाता सिंह, पूर्व गृह सचिव जी के पिल्लई और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के प्रधान सचिव टी के ए नायर समेत कई नामचीन लोग शामिल हैं। 

यह भी पढ़ें: खरगोन में फिर दंगे भड़काने की कोशिश, BJP सांसद ने किया मुस्लिमों के खिलाफ हिंसा का आह्वान

प्रधानमंत्री को संबोधित इस पत्र में लिखा गया है कि, 'पूर्व ब्यूरोक्रेट्स के रूप में, आम तौर पर हम स्वयं को इतने तीखे शब्दों में व्यक्त नहीं करना चाहते हैं, लेकिन जिस निरंतर गति से देश में संवैधानिक संस्थाओं को नष्ट किया जा रहा है, वह हमें बोलने और अपना गुस्सा और पीड़ा व्यक्त करने के लिए मजबूर करता है। पिछले कुछ वर्षों और महीनों में कई राज्यों - असम, दिल्ली, गुजरात, हरियाणा, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में अल्पसंख्यक समुदायों, विशेष रूप से मुसलमानों के खिलाफ नफरत की हिंसा में वृद्धि हुई है। इन सभी राज्यों में बीजेपी है। दिल्ली (जहां केंद्र सरकार पुलिस को नियंत्रित करती है) में सत्ता ने एक भयावह नया आयाम हासिल कर लिया है।'

पूर्व नौकरशाहों ने कहा कि उनका मानना ​​है कि खतरा अभूतपूर्व है और दांव पर सिर्फ संवैधानिक नैतिकता और आचरण नहीं है; बल्कि बेजोड़ सामाजिक ताना-बाना, जो हमारी सबसे बड़ी विरासत है और जिसे हमारे संविधान को इतनी सावधानी से संरक्षित करने के लिए डिज़ाइन किया गया है, उसके फटने की संभावना है। इस विशाल सामाजिक खतरे के सामने आपकी चुप्पी असहनीय है। 

यह भी पढ़ें: हेट स्पीच नहीं रुकी तो लेंगे सख्त एक्शन, धर्मसंसद को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने उत्तराखंड सरकार को फटकारा

नौकरशाहों ने जहां हेट पॉलिटिक्स पर पीएम मोदी की चुप्पी पर सवाल उठाया है, वहीं उन्हें उनकी तरफ से दिया गया 'सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास' वाला मंत्र भी याद दिलाया है। उन्होंने लिखा है कि, 'सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास के आपके वादे को दिल से लेते हुए हम आपकी अंतरात्मा से अपील करते हैं। हम आशा करते हैं कि आजादी के अमृत महोत्सव' के इस वर्ष में, पक्षपातपूर्ण विचारों से ऊपर उठकर, आप नफरत की राजनीति को समाप्त करने का आह्वान करेंगे।