दिल्ली में दो दिवसीय हड़ताल पर ऑटो टैक्सी यूनियन, ईंधन की बढ़ती कीमतों का कर रहे विरोध

दिल्ली में ऑटो, टैक्सी और मिनी बस चालकों के विभिन्न संगठन आज से हड़ताल पर हैं जिससे यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ सकता है

Updated: Apr 18, 2022, 08:51 AM IST

दिल्ली में दो दिवसीय हड़ताल पर ऑटो टैक्सी यूनियन, ईंधन की बढ़ती कीमतों का कर रहे विरोध

नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली में ऑटो, टैक्सी और मिनी बस चालकों के विभिन्न संगठन आज से हड़ताल पर चले गए हैं। देशभर में बढ़ते पेट्रोल-डीजल और CNG की कीमतों के खिलाफ इस दो दिवसीय हड़ताल का ऐलान किया गया है। इस हड़ताल का असर पूरी दिल्ली में रहेगा। इसकी वजह से दिल्ली की सड़कों पर टैक्सी या ऑटो दिखाई नहीं देंगे। ईंधन के बढ़े दाम के बाद ऑटो-टैक्‍सी यूनियन ने किराया बढ़ाने की मांग की है। 

यूनियन की तरफ से कुल 16 मांगें रखी गई है। दिल्ली ऑटो रिक्शा संघ के महासचिव राजेंद्र सोनी का कहना है कि हमारे साथ तमाम ऑटो टैक्सी यूनियन होंगी। हड़ताल के दिन दिल्ली की जनता को जो दिक्कत होगी उसके लिए हमें खेद हैं। लेकिन जनता परेशान होती हैं तो इसकी जिम्मेदारी केंद्र और दिल्ली सरकार दोनों की होगी। हमने कुछ मांग रखी है अगर इन पर कोई सुनवाई नहीं होती है तो आगे भी हड़ताल की जा सकती है।

राजेंद्र सोनी ने सीएनजी की कीमतों पर 35 रुपये प्रति किलोग्राम की सब्सिडी की भी मांग की है। बता दें कि शहर में सार्वजनिक परिवहन प्रणाली के रूप में 90,000 से अधिक ऑटो और 80,000 से अधिक पंजीकृत टैक्सी हैं. एसटीए ऑपरेटर्स एकता मंच के महासचिव श्यामलाल गोला ने कहा कि किराए में संशोधन और सीएनजी की कीमतें घटाए जाने की मांग के समर्थन में लगभग 10,000 आरटीवी बसें भी बंद रहेंगी।