मुझसे सीधे बात करें, मीडिया के जरिए बात करने की जरूरत नहीं, मैं ही हूं फुल टाइम प्रेसिडेंट: CWC में सोनिया गांधी 

कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक में सोनिया गांधी ने G23 समूह को दी नसीहत, बोलीं- मुझे स्पष्ट बातचीत पसंद है, मैं ही फुल टाइम अध्यक्ष हूं, कांग्रेस नेताओं को खुद पर कंट्रोल करना चाहिए, पार्टी में अनुशासन की जरूरत है

Updated: Oct 16, 2021, 01:49 PM IST

मुझसे सीधे बात करें, मीडिया के जरिए बात करने की जरूरत नहीं, मैं ही हूं फुल टाइम प्रेसिडेंट: CWC में सोनिया गांधी 
Photo Courtesy: Twitter

नई दिल्ली। कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक से बड़ी खबर सामने आई है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने G23 समूह के नेताओं को स्पष्ट और डायरेक्ट बातचीत करने की नसीहत दी है। सोनिया गांधी ने इस दौरान स्पष्ट किया है कि वे कांग्रेस की फुल टाइम अध्यक्ष हैं। सोनिया गांधी ने इस दौरान कहा है कि पार्टी नेताओं को अनुशासन लाना होगा। उन्होंने यह भी कहा है कि कांग्रेस नेता खुद पर नियंत्रण रखें क्योंकि पार्टी हित ही सर्वोपरि है।

सोनिया गांधी ने बैठक के दौरान बेमतलब की बयानबाजी करने वाले नेताओं, खासकर G23 नेताओं, को करारा जवाब दिया। सोनिया गांधी ने कहा कि मुझे स्पष्टवादी लोग पसंद हैं। मैं चाहती हूं कि आप मुझसे डायरेक्ट बात करें। मीडिया के माध्यम से मुझसे बातचीत करने की कोई आवश्यकता नहीं है। सोनिया गांधी ने इस दौरान कहा कि, 'यदि आप मुझे बोलने की इजाजत दें तो मैं ही कांग्रेस की फुलटाइम और अंतरिम अध्यक्ष हूं।'

यह भी पढ़ें: जबरण फोटोग्राफर लेकर वार्ड में घुसे स्वास्थ्य मंत्री, मंडाविया के PR स्टंट पर भड़की मनमोहन सिंह की बेटी

आत्मसंयम और अनुशासन की जरूरत: सोनिया गांधी

सोनिया गांधी ने सीडब्ल्यूसी बैठक के दौरान आगे कहा कि, 'पूरा संगठन कांग्रेस को फिर से मजबूत करना चाहता है। लेकिन इसके लिए एकजुटता और पार्टी के हित को सर्वोपरि रखने की आवश्यकता है। इसके लिए आत्म-नियंत्रण और अनुशासन की भी आवश्यकता है। मैं पहले ही संगठनात्मक चुनाव करवाना चाहती थी। लेकिन देश कोरोना से जूझ रहा था इसलिए डेडलाइन को बढ़ाया गया। अब पार्टी द्वारा संगठनात्मक चुनाव के लिए शेड्यूल जारी कर दिया जाएगा। केसी वेणुगोपाल जी आपको चुनाव संबंधित सभी जानकारियां देंगे।' 

सोनिया गांधी ने आगे कहा कि हम यहां खुली और ईमानदार चर्चा करते हैं। लेकिन इस चारदीवारी के बाहर जो भी बात जाए वह सीडब्ल्यूसी के सहमति से जानी चाहिए। उन्होंने बताया की विधानसभा चुनावों की तैयारियां शुरू हो चुकी है। उन्होंने कहा, 'हमारे सामने कई चुनौतियां हैं, लेकिन अगर हम एकजुट और अनुशासित रहकर पार्टी के हित के लिए काम करेंगे तो मुझे पूरा विश्वास है कि परिणाम अच्छे होंगे। उन्होंने अपने कार्यों का ब्यौरा देते हुए कहा कि, 'हम समान विचारधारा वाली राजनीतिक दलों से बातचीत कर रहे हैं। हमने राष्ट्रीय मुद्दों पर संयुक्त बयान जारी किए हैं और संसद में भी अपनी रणनीति में समन्वय बिठाया है।'

लखीमपुर की घटना ने भाजपाई मानसिकता को उजागर किया: सोनिया गांधी

सोनिया गांधी ने इस दौरान केंद्र सरकार की जमकर आलोचना की। उन्होंने जोर देते हुए कहा कि केंद्र सरकार का एकमात्र एजेंडा है ‘बेचो,बेचो,बेचो' इनके पास सिर्फ सरकारी संपत्तियों को बेचने की योजना है। सोनिया गांधी ने किसान नरसंहार को लेकर कहा कि, 'लखीमपुर-खीरी की भयावह घटना ने बीजेपी की मानसिकता को उजागार किया है। काले कानूनों के खिलाफ विरोध के दौरान अन्नदाताओं को बहुत कुछ झेलना पड़ रहा है। उन्होंने जम्मू-कश्मीर में हुई हालिया हत्या की घटनाओं की निंदा भी की।