कल ओडिशा और पश्चिम बंगाल का दौरा करेंगे पीएम मोदी, 'चक्रवात यास' से हुए नुकसान का लेंगे जायज़ा

ओडिशा और पश्चिम बंगाल के दौरे पर जाने से पहले पीएम नरेंद्र मोदी ने आज दिल्ली में चक्रवात यास के प्रभाव की समीक्षा के लिए एक बैठक की।

Updated: May 27, 2021, 05:37 PM IST

कल ओडिशा और पश्चिम बंगाल का दौरा करेंगे पीएम मोदी, 'चक्रवात यास' से हुए नुकसान का लेंगे जायज़ा
Photo courtesy: times of India

दिल्ली। चक्रवाती तूफान से मची तबाही का जायजा लेने कल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ओडिशा और पश्चिम बंगाल का दौरा करेंगे। पीएम मोदी पहले भुवनेश्वर में उतरेंगे, जहां समीक्षा बैठक करेंगे, और फिर वे बालसोर, भद्रक और पुरबा मेदिनीपुर के जैसे प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण करेंगे। इसके बाद प्रधानमंत्री मोदी पश्चिम बंगाल की समीक्षा बैठक में हिस्सा लेंगे।


पीएम नरेंद्र मोदी ने दिल्ली में आज चक्रवात यास के प्रभाव की समीक्षा के लिए एक बैठक बुलाई। बैठक में अधिकारियों ने तैयारियों के विभिन्न पहलुओं, नुकसान के आंकलन और संबंधित मामलों पर एक रिपोर्ट प्रस्तुत की।


बैठक में जानकारी दी गई कि पश्चिम बंगाल और ओडिशा में 46 टीमों के साथ एनडीआरएफ की लगभग 106 टीमों को तैनात किया गया था, जिन्होंने 1000 से ज्यादा व्यक्तियों की जान बचाई। साथ ही 2500 से ज्यादा सड़कों पर गिरे पेड़ों और पोलों को हटाया। सेना और तटरक्षक बलों ने भी फंसे हुए लोगों को बचा कर सुरक्षित स्थान पर किया। जबकि वहीं,नौसेना और वायु सेना अलर्ट पर रखा गया था। 

बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यास चक्रवात से उत्पन्न चुनौतियों के जवाब में केंद्र और राज्यों की एजेंसियों द्वारा निभाई गई प्रभावी और सक्रिय भूमिका का उल्लेख किया। और एजेंसियों को यह सुनिश्चित करने की सलाह दी कि प्रभावित क्षेत्रों में सामान्य जीवन जल्द से जल्द बहाल हो और प्रभावित व्यक्तियों को उचित रूप से राहत दी जाए।

बता दें, बंगाल और ओडिशा में  तबाही मचा कर यास तूफान अब पश्चिमी सिंहभूम से झारखंड में प्रवेश कर गया है। इस दौरान हवा की रफ्तार 60 किलोमीटर प्रति घंटा रही। तूफान का असर झारखंड में दिखने लगा है।  राज्य के 21 जिलों में पिछले 24 घंटे से लगातार बारिश हो रही है। जमशेदपुर और धनबाद में तेज हवाएं चलने से कई पेड़ और बिजली के खंभे गिर गए, जिसके कारण 200 से अधिक गांवों में अभी भी अंधेरा छाया हुआ है।