Priyanka Gandhi: किसानों के घरों में लूट, मोदी के दोस्तों को छूट

मुजफ्फरनगर की किसान महापंचायत में बोलीं कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी, जब किसान नेता राकेश टिकैत के आंखों में आंसू आए तो पीएम मोदी के होठों पर मुस्कराहट थी

Updated: Feb 20, 2021, 05:22 PM IST

Priyanka Gandhi: किसानों के घरों में लूट, मोदी के दोस्तों को छूट
Photo Courtesy : TV9

मुजफ्फरनगर। नए कृषि कानूनों के खिलाफ देशभर के किसानों का हल्लाबोल जारी है। इसी बीच कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने आज उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में किसान महापंचायत को संबोधित किया। प्रियंका इस दौरान केंद्र की मोदी सरकार पर जमकर बरसीं। उन्होंने कहा कि 'किसानों के घरों में लूट हो रही है और मोदी के दोस्तों को छूट दी गई है।

कांग्रेस महासचिव ने कहा, 'ऐसा समय आया है कि 90 दिनों से लाखों किसान, इस देश की राजधानी के बाहर बैठे हैं, संघर्ष कर रहे हैं। इसमें 215 किसान शहीद हुए, बिजली काटी गई, पानी रोका गया, उन्हें मारा गया, जबकि वो शांति से बैठे थे। राजधानी की सीमा को देश की सीमा की तरह बनाया गया। हर नेता को एहसास होना चाहिए कि जनता उस पर एहसान कर करती है। मुझे इसका पूरा एहसास है। जो किसान अपने बेटों को देश की सुरक्षा के लिए सीमा पर भेजता है उन्हें अपमानित किया गया। उन्हें देशद्रोही कहा गया, उन्हें आतंकी कहा गया। खुद प्रधानमंत्री ने संसद में उनका मजाक उड़ाया, उन्हें परजीवी और आंदोलनजीवी कहा।' 

किसानों का आंसू पीएम के लिए मजाक : प्रियंका गांधी

कांग्रेस नेता ने कहा कि किसानों के आंसुओं को पीएम मोदी मजाक समझते हैं। उन्होंने कहा, 'किसानों को प्रताड़ित किया गया। जब राकेश टिकैत की आंखों से आंसू निकले, तो हमारे प्रधानमंत्री को मजाक सूझ रहा था और उनके होंठों पर मुस्कराहट थी। किसान के घरों में लूट हो रही है और पीएम के मित्रों को छूट दी गई है। पीएम ने किसानों का भुगतान करने की बात कही थी, क्या आपका भुगतान हुआ? 15 हजार करोड़ रुपये का भुगतान होना बाकी है। लेकिन पीएम के लिए 16 हजार करोड़ के हवाई जहाज खरीदे गए।'

एक अहंकारी राजा जैसे हैं पीएम मोदी : प्रियंका

प्रियंका ने इस दौरान पीएम मोदी की तुलना अहंकारी राजा से की। उन्होंने कहा, 'किसान आंदोलन को पूरा देश ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया देख रही है। कभी-कभी लगता है हमारे प्रधानमंत्री वैसे हो गए हैं जैसे एक अहंकारी राजा थे। वे अपने महल से बाहर नहीं निकलते थे। लोग उनसे डरते थे, इसलिए उनके सामने बड़ी-बड़ी बातें कहने लगे। इससे राजा का अहंकार बढ़ता गया। ठीक वैसे ही एक अहंकारी राजा की तरह हमारे प्रधानमंत्री काम कर रहे हैं। इसी साल जब किसान तड़प रहे हैं, तो आप देखेंगे कि इन अरबपतियों ने कितना पैसा कमाया है, आप चौंक जाएंगे। लेकिन आप सड़कों पर बैठकर प्रदर्शन कर रहे हैं और कोई सुन नहीं रहा है।' 

मुजफ्फरनगर में आयोजित इस महापंचायत में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू, बॉक्सर विजेंद्र सिंह समेत कई नेता मौजूद थे। महापंचायत में जिले के हजारों किसानों ने भाग लिया। उत्तर प्रदेश कांग्रेस राज्य के 27 जिलों में कृषि कानूनों के विरोध में महापंचायत कर रही है। इस अभियान की शुरुआत सहारनपुर से हुई थी।