VHP की शिकायत पर महिला पत्रकारों के खिलाफ FIR, त्रिपुरा पुलिस पर लगा धमकाने का आरोप

पत्रकार समृद्धि सकुनिया और स्वर्णा झा ने आरोप लगाया है की त्रिपुरा पुलिस के लोगों ने होटल में आकर उन्हें डराया-धमकाया और रविवार सुबह उन्हें डिटेन कर लिया

Updated: Nov 14, 2021, 01:24 PM IST

VHP की शिकायत पर महिला पत्रकारों के खिलाफ FIR, त्रिपुरा पुलिस पर लगा धमकाने का आरोप

नई दिल्ली। त्रिपुरा पुलिस ने दक्षिणपंथी संगठन विश्व हिंदू परिषद की शिकायत पर दो महिला पत्रकारों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर लिया है। पुलिस फिलहाल उन्हें पूछताछ के लिए ले गई है और उन्हें कहीं जाने नहीं दिया जा रहा है। महिला पत्रकारों ने पुलिस पर डराने-धमकाने का भी आरोप लगाया है।

जानकारी के मुताबिक पत्रकार समृद्धि सकुनिया और स्वर्णा झा त्रिपुरा हिंसा के बाद के हालातों को कवर करने गयीं थीं। उन्होंने बताया कि रिपोर्टिंग के दौरान पुलिस के जवान उनका पीछा करते थे। शनिवार को रात करीब 10.30 बजे पुलिस उनके होटल में आई।  पुलिस पर उन्होंने डराने धमकाने का आरोप भी लगाया है। 

महिला पत्रकारों ने बताया है कि रविवार सुबह साढ़े पांच बजे जब वे होटल से चेक आउट कर रहे थे तब पुलिस आई और एफआईआर के संबंध में उन्हें जानकारी दिया गया। इसके बाद उन्हें धर्मनगर पुलिस स्टेशन चलने को कहा गया। फिलहाल पुलिस ने उन्हें डिटेन कर रखा है और उन्हें कहीं जाने नहीं दिया जा रहा है। बताया जा रहा है कि पुलिस उनसे फेक न्यूज़ सर्कुलेशन को लेकर पूछताछ कर सकती है।

यह भी पढ़ें: त्रिपुरा में वकीलों, पत्रकारों और एक्टिविस्टों के खिलाफ UAPA पर सुप्रीम कोर्ट करेगी सुनवाई

महिला पत्रकारों के साथ त्रिपुरा पुलिस के इस व्यवहार को लेकर सोशल मीडिया पर लोगों का गुस्सा फूट पड़ा है। सोशल मीडिया यूजर्स इस कार्रवाई को प्रेस की स्वतंत्रता के खिलाफ बता रहे हैं। दरअसल, हाल ही में विहिप की एक रैली के बाद त्रिपुरा में हिंसा और आगजनी की घटनाएं हुई थी। हालांकि, केंद्रीय गृह मंत्रालय ने कहा है कि सोशल मीडिया पर प्रसारित खबरें फर्जी हैं और गलतबयानी की गई है।

गृह मंत्रालय के मुताबिक त्रिपुरा में ऐसा कुछ नहीं हुआ जैसा बताया जा रहा है। त्रिपुरा हिंसा से संबंधित पोस्ट करने को लेकर पुलिस 102 पत्रकारों, वकीलों और सोशल एक्टिविस्टों के खिलाफ UAPA जैसी गंभीर एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कर चुकी है। त्रिपुरा पुलिस की कार्रवाई को दिग्गज वकील प्रशांत भूषण ने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दिया है। चीफ जस्टिस एनवी रमन्ना ने कहा है कि जल्द ही इस मामले में सुनवाई होगी।