किसानों ने केंद्रीय मंत्री को दिखाए काले झंडे, बेटे ने प्रदर्शनकारियों पर चढ़ा दी कार, 5 किसानों की दर्दनाक मौत

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में हिंसा, बीजेपी मंत्री के बिगड़ैल बेटे ने प्रदर्शन कर रहे किसानों को कार से रौंदा, 5 किसानों ने तड़प-तड़प कर तोड़ा दम, कई अन्य घायल, घटनास्थल के लिए राकेश टिकैत लखीमपुर खीरी के लिए रवाना

Updated: Oct 03, 2021, 09:58 PM IST

किसानों ने केंद्रीय मंत्री को दिखाए काले झंडे, बेटे ने प्रदर्शनकारियों पर चढ़ा दी कार, 5 किसानों की दर्दनाक मौत
Photo Courtesy : The Statesman

लखीमपुर खीरी। उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी से रूह कंपाने वाली खबर सामने आई है। यहां डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य और केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा टेनी के काफिले ने किसानों को रौंद दिया। बताया जा रहा है कि बीजेपी मंत्री अजय मिश्रा का बिगड़ैल बेटा भी इस काफिले में था और उसी ने अपनी कार विरोध कर रहे किसानों के ऊपर चढ़ा दी। इस दौरान 5 किसानों ने तड़प-तड़पकर दम तोड़ दिया, जबकि कई अन्य घायल हैं।

रिपोर्ट्स के मुताबिक रविवार दोपहर करीब पौने तीन बजे डिप्टी सीएम और केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी का काफिला तिकोनिया चौराहे से गुजर रहा था। सामने से कृषि कानून के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों ने उन्हें काले झंडे दिखाना शुरू कर दिया। इसी बात से झल्लाकर केंद्रीय मंत्री टेनी के बेटे ने अपनी कार से किसानों को रौंद दिया। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक टेनी का बेटा उस वक्त खुद ही कार चला रहा था।

घटना इतनी वीभत्स की कि चारों तरफ चीख पुकार मच गई। 5 किसानों ने मौके पर ही तड़प-तड़पकर दम तोड़ दिया, जबकि कुछ अन्य किसान जिंदगी और मौत से जूझ रहे हैं। घटना की जानकारी मिलते ही बीकेयू नेता राकेश टिकैत लखीमपुर खीरी के लिए रवाना हो चुके हैं। उधर इस घटना से आक्रोशित किसानों ने काफिले की तीन गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया है। घटनास्थल पर माहौल तनावपूर्ण हो गया है।

यह भी पढ़ें: विश्वभर में मना अहिंसा दिवस, भारत में ट्रेंड में रहा बापू का हत्यारा, ट्विटर की पॉलिसी पर उठ रहे सवाल

दरअसल, दोनों सत्ताधारी नेताओं के लिए तिकोनिया में हैलीपेड बनाया गया था, लेकिन आंदोलनकारी किसानों ने उसे अपने कब्जे में लेकर वहां टेंट गाड़ दिया था। यहां हजारों की संख्या में किसान मौजूद थे। किसानों का तीखा विरोध देखते हुए प्रशासन ने उन्हें हेलीकॉप्टर से न आने की चेतावनी दी थी। इसके बाद दोनों नेता सड़क मार्ग से आ रहे थे। इसी दौरान रास्ते में किसानों ने काला झंडा दिखाना शुरू कर दिया और देखते ही देखते काफिले की एक गाड़ी उन्हें कुचलने लग गयी।

टेनी ने दी थी किसानों को धमकी

किसानों पर गाड़ी चढ़ाने की इस घटना को सुनियोजित बताया जा रहा है। दरअसल, बीजेपी मंत्री टेनी को किसानों ने बीते 26 सितंबर को भी लखीमपुर में काले झंडे दिखाए थे। इसी दौरान टेनी ने किसानों को धमकी देते हुए कहा था कि, 'सुधर जाओ, नहीं तो सामना करो। वरना हम सुधार देंगे, हमें दो मिनट भी नहीं लगेंगे। मेरे विषय में आप जानते होंगे, मैं भागने वाला नहीं हूं।' 

इस बलिदान को बेकार नहीं जाने देंगे: राहुल गांधी

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने इस घटना को लेकर तीखी प्रतिक्रिया दी है। राहुल गांधी ने कहा है कि, 'जो इस अमानवीय नरसंहार को देखकर भी चुप है, वो पहले ही मर चुका है। लेकिन हम इस बलिदान को बेकार नहीं जाने देंगे। किसान सत्याग्रह ज़िंदाबाद!' 

मामले पर समाजवादी पार्टी के नेता व पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि यह घोर अमानवीय कृत्य है। यादव ने कहा है कि उत्तर प्रदेश दंभी भाजपाइयों का जुल्म अब और नहीं सहेगा। उन्होंने बीजेपी को चेतावनी देते हुए कहा है कि यदि यही हाल रहा तो प्रदेश में भाजपाई न गाड़ी से चल पाएंगे न ही उतर पाएंगे। इस बीच खबर है कि प्रियंका गांधी, अखिलेश यादव और जयंत चौधरी किसानों का हाल जानने कल लखीमपुर खीरी पहुंच रहे हैं।