भारत पहुंचे रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन, कहा- भारत एक महान शक्ति और भरोसेमंद दोस्त

दिल्ली स्थित हैदराबाद हाउस में पीएम मोदी में किया राष्ट्रपति पुतिन का गर्मजोशी से स्वागत, पीएम मोदी बोले- दोनों देशों के रिश्ते बेहद मजबूत दौर में

Updated: Dec 06, 2021, 06:50 PM IST

भारत पहुंचे रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन, कहा- भारत एक महान शक्ति और भरोसेमंद दोस्त

नई दिल्ली। एकदिवसीय भारत यात्रा पर आए रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन दिल्ली पहुंच गए हैं। यहां हैदराबाद हाउस में प्रधानमंत्री मोदी ने उनका गर्मजोशी से स्वागत किया। इस दौरान राष्ट्रपति पुतिन ने भारत को रूस का भरोसेमंद साथी बताया वहीं पीएम मोदी ने कहा कि दोनों देशों के रिश्ते बेहद मजबूत दौर में हैं।

दिल्ली एयरपोर्ट से प्रेसिडेंट पुतिन सीधे हैदराबाद हाउस पहुंचे जहां खुद पीएम मोदी ने उनका स्वागत किया। इसके बाद दोनों नेताओं के बीच बातचीत भी हुई और उन्होंने संयुक्त रूप से मीडिया के सामने अपना बयान दिया। पुतिन ने कहा कि, 'मुझे भारत आकर बेहद खुशी हो रही है। पिछले साल कोरोना के चलते दोनों देशों के बीच व्यापार में 17 फीसदी की गिरावट हुई थी। लेकिन इस साल शुरुआती 9 महीनों में व्यापार में 38 फीसदी की बढ़ोतरी देखी गई है। भारत एक महान शक्ति होने के साथ ही रूस का एक भरोसेमंद साथी है।'

यह भी पढ़ें: नागालैंड में 14 निर्दोष नागरिकों की हत्या मामले में बोले गृहमंत्री अमित शाह, हमें अफसोस है

इस दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि, 'भारत और रूस के रिश्ते अपने सबसे मजदूर दौर में हैं। मेक इन इंडिया कार्यक्रम के तहत हमारा रक्षा सहयोग और मजबूत हो रहा है। रक्षा और आर्थिक मोर्चे पर हम एक दूसरे के अहम सहयोगी हैं। कोरोना के खिलाफ लड़ाई में भी हमारा आपसी सहयोग रहा है। आर्थिक मोर्चे पर रिश्तों को और मजबूत बनाने के लिए हम बड़े विजन पर काम कर रहे हैं। हमने 2025 तक 30 बिलियन डॉलर ट्रेड और 50 बिलियन डॉलर के निवेश का लक्ष्य रखा है।'

बता दें कि राष्ट्रपति पुतिन भारत-रूस वार्षिक शिखर सम्मेलन में शामिल होने पहुंचे हैं। पिछले दो वर्षों में कोरोना के कारण दोनों देशों के बीच का सालाना शिखर सम्मेलन नहीं हो पाया था। ऐसे में दो साल बाद दोनों नेताओं के बीच आमने-सामने की मुलाकात हो रही है। दुनियाभर खासकर अमेरिका, चीन और पाकिस्तान की नजरें इस सम्मेलन पर है। रक्षा के क्षेत्र में होने वाले समझौतों पर दुनिया की नजरें ज्यादा होंगी। 

यह भी पढ़ें: शशि थरूर ने भी किया संसद टीवी से किनारा, टू द प्वाइंट शो को नहीं करेंगे होस्ट

दोनों देशों के बीच हुए दो समझौतों ने अमेरिका, चीन, और पाकिस्तान को पहले से ही परेशान कर दिया है। ये हैं S-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम और दूसरा AK-203 राइफलों का प्रोडक्शन। यहां साढ़े सात लाख AK-203 राइफलें बनाई जानी हैं। दुनिया में पहली बार यह राइफलें रूस से बाहर बनाई जानी हैं। रूसी मीडिया के मुताबिक, इस सम्मेलन के दौरान व्यापार, ऊर्जा, कल्चर, रक्षा, स्पेस और टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में करीब 10 समझौते हो सकते हैं। इसके बाद पुतिन देर रात मॉस्को के लिए रवाना हो जाएंगे।