हम सरकार चला नहीं रहे, बस किसी तरह संभाल रहे हैं, कर्नाटक के कानून मंत्री का ऑडियो वायरल

ऑडियो लीक होने के बाद कानून मंत्री जेसी मधुस्वामी अपनी ही सरकार के निशाने पर आ गए हैं, उनके इस्तीफे की मांग उठने लगी है।

Updated: Aug 16, 2022, 05:30 PM IST

हम सरकार चला नहीं रहे, बस किसी तरह संभाल रहे हैं, कर्नाटक के कानून मंत्री का ऑडियो वायरल

बेंगलुरु। कर्नाटक के कानून मंत्री जे सी मधुस्वामी की एक रिकॉर्डिंग वायरल हो रही है। इसमें वे ये कहते हुए सुनाई दे रहे हैं कि हम सरकार चला नहीं रहे हैं, हम बस किसी तरह इसे संभाल रहे हैं। मंत्री जे सी मधुस्वामी की इस टिप्पणी के कारण राज्य के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई को शर्मिंदगी का सामना करना पड़ रहा है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक यह ऑडियो मधुस्वामी और चन्नापटना के एक सामाजिक कार्यकर्ता भास्कर के बीच फोन पर हुई बातचीत का है। मधुस्वामी को किसानों के संबंध में वीएसएसएन बैंक के खिलाफ भास्कर की शिकायतों के जवाब में फोन पर उनसे कहते सुना जा सकता है, 'हम यहां सरकार नहीं चला रहे, हम बस किसी तरह संभाल रहे हैं और अगले 7-8 महीने तक किसी तरह खींचना है। विधानसभा चुनाव तक सिर्फ मैनेजमेंट का काम है।'

यह भी पढ़ें: बिहार कैबिनेट विस्तार: गृह और वित्त विभाग जेडीयू के पास, तेजप्रताप का स्वास्थ्य विभाग अब तेजस्वी संभालेंगे

ऑडियो वायरल होने के बाद राज्य का सियासी पारा गर्म हो गया है। राज्य सरकार के मंत्री ही उनसे इस्तीफा मांगने लगे हैं। उद्यानिकी मंत्री मुनिरत्ना ने कहा था कि मधुस्वामी को इस तरह का बयान देने से पहले तत्काल मंत्रालय से इस्तीफा दे देना चाहिए। विपक्षी दल कांग्रेस ने ऑडियो लीक होने के बाद बसवराज बोम्मई सरकार को नाकारा करार दिया। मंत्री का ऑडियो लीक होने के बाद आज मुख्यमंत्री ने खुद भी कहा कि सबकुछ ठीक है और कोई परेशानी नहीं है। इस टिप्पणी को गलत संदर्भ में लिया गया है।

यह टिप्पणी ऐसे समय वायरल हुई है जब 62 वर्षीय बोम्मई को कार्यकाल पूरा होने से पहले ही मुख्यमंत्री पद से हटाने की चर्चा जोरों पर है। दरअसल, अगले साल कर्नाटक में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। इस बीच ऐसी खबरें सामने आई हैं कि भाजपा नेतृत्व बोम्मई के कामकाज से खुश नहीं है। ऐसे में वह चुनाव से पहले किसी नए चेहरे को मौका देना चाहेगी कि चुनावी नतीजों पर प्रतिकूल प्रभाव न पड़े। साल 2021 में बीएस येदियुरप्पा के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद बोम्मई को उनकी जगह शपथ दिलाई गई थी।