यूनेस्को के क्रिएटिव शहरों की लिस्ट में श्रीनगर शामिल, शिल्प एवं लोक कला श्रेणी में मिला स्थान

UCCN के 49 क्रिएटिव शहरों में श्रीनगर को मिली जगह, ग्वालियर को पछाड़ कर पाया स्थान, मुंबई, हैदराबाद, वाराणसी पहले से विभिन्न कैटेगरी में यूनेस्को की लिस्ट में हैं शुमार

Updated: Nov 09, 2021, 01:12 PM IST

यूनेस्को के क्रिएटिव शहरों की लिस्ट में श्रीनगर शामिल, शिल्प एवं लोक कला श्रेणी में मिला स्थान
Photo Courtesy: daily excelsior

जम्‍मू-कश्‍मीर की राजधानी श्रीनगर अपनी खूबसूरत वादियों के लिए जानी जाती है। यहां की प्राकृतिक सुंदरता के साथ-साथ यहां का आर्ट एंड कल्चर भी आकर्षण का केंद्र है। यही वजह है कि यूनेस्‍को ने क्रिएटिव शहरों के नेटवर्क में इसे शामिल किया है। झीलों के शहर श्रीनगर के साथ इस लिस्ट में दुनिया भर के 49 शहरों को जगह मिली है। UCCN के नेटवर्क में 90 देशों के 295 शहरों को अब तक शामिल किया जा चुका है।

श्रीनगर की लोक कला और हैंडी क्राफ्ट दुनिया भर में फेमस है, यही वजह है कि इस क्षेत्र में यहां के योगदान की तारीफ करते हुए यूनेस्को ने श्रीनगर शहर को शिल्प एवं लोक कला कैटेगिरी में क्रिएटिव शहरों नेटवर्क की लिस्ट में शामिल कर लिया है।

श्रीनगर की इस उपलब्धि पर देश के प्रधानमंत्री ने भी सोशल मीडिया पर बधाई देते हुए खुशी जताई है।  प्रधानमंत्री ने ट्वीट संदेश में कहा है कि यह काफी खुशी की बात है कि सुंदर श्रीनगर यूनेस्‍को की क्रिएटिव सिटीज नेटवर्क में शामिल हो गया है। यूनेस्‍को ने श्रीनगर की लोक और शिल्‍प कला के बारे में उल्‍लेख किया है। इससे श्रीनगर की सांस्‍कृतिक विविधता को भी एक नई पहचान मिली है। 

क्रिएटिव शहरों के नेटवर्क में शामिल होकर यूनेस्को के माध्यम से श्रीनगर को ग्लोबल स्तर पर अपने यहां तैयार किए पारंपरिक हस्तशिल्प और लोक कलाओं का प्रतिनिधित्व करने के बेहतरीन मौके मिलेंगे। दरअसल  यूनेस्को के क्रिएटिव शहरों के नेटवर्क में दुनियाभर के शहरों को उनके यहां के फेमस क्राफ्ट, फोक आर्ट,  मीडिया, फिल्म, लिक्ट्रेचर, डिजाइन, गेस्ट्रोनामी याने पाक कला और मीडिया आर्टस समेत सात रचनात्मक क्षेत्रों से जुड़ी एक्टिविटीज के आधार पर शामिल किया जाता है। श्रीनगर के साथ इस लिस्ट में बोहिकॉन, दोहा और जकार्ता को भी जगह मिली है। वहीं ब्रेज़ाविल, दुबई, मेक्सिको सिटी और मॉन्ट्रियल पहले से ही इसमें शामिल हैं। वहीं दूसरे नए शहरों की बात करें तो अबू धाबी, पोर्ट लुइस भी शुमार हैं।

साल 2019 से ही क्रिएटिव शहरों की लिस्ट में श्रीनगर को शामिल करने के लिए पहली बार नामांकन डोजियर जमा किया गया था। लेकिन तब हैदराबाद को पाककला याने गैस्ट्रोनामी के आधार पर और मायानगरी कही जाने वाली मुंबई को फिल्मों में योगदान के लिए चुना गया था। वर्ष 2019 से पहले केवल तीन हिन्दुस्तानी शहरों को इस लिस्ट में स्थान मिला था। जयपुर को शिल्प एवं लोक कला, 2015 में वाराणसी को संगीत के लिएऔर चेन्नई को संगीत के क्षेत्र में योगदान के लिए 2017 में इस लिस्टम में शामिल किया गया था।