रोहित शर्मा को उपकप्तानी से हटाना चाहते थे कोहली, रिपोर्ट में हुआ खुलासा

कोहली की वनडे कप्तानी पर भी लटक रही है तलवार, टी ट्वेंटी वर्ल्ड कप में खराब प्रदर्शन पर जा सकती है वनडे की कप्तानी

Publish: Sep 17, 2021, 11:14 AM IST

रोहित शर्मा को उपकप्तानी से हटाना चाहते थे कोहली, रिपोर्ट में हुआ खुलासा

नई दिल्ली। विराट कोहली के कप्तानी छोड़ने के बाद एक और बड़ा खुलासा हुआ है। न्यूज एजेंसी पीटीआई को बीसीसीआई के एक सूत्र ने बताया है कि विराट कोहली रोहित शर्मा को सीमित ओवरों की उपकप्तानी से हटाना चाहते थे। इतना ही नहीं रोहित शर्मा को उपकप्तानी से हटाने का प्रस्ताव विराट कोहली ने खुद भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड को दे डाला था। 

रिपोर्ट्स के मुताबिक विराट कोहली केएल राहुल या ऋषभ पंत में से किसी एक को सीमित ओवरों की उपकप्तानी देना चाहते थे। इसके पीछे कोहली ने दलील रोहित शर्मा की उम्र का दिया था। कोहली ने कहा था कि रोहित शर्मा अब 34 की उम्र के हो चुके हैं, लिहाज़ा केएल राहुल या ऋषभ पंत में से किसी एक को कप्तानी सौंप दी जानी चाहिए। 

कोहली की यह दलील बोर्ड को नागवार गुजरी। कोहली की इस दलील के बाद बोर्ड इस नतीजे पर पहुंचा कि कोहली अपना उत्तराधिकारी नहीं चाहते।

कोहली खिलाड़ियों से संवाद स्थापित नहीं करते 

एक पूर्व भारतीय क्रिकेटर ने पीटीआई को बताया है कि कोहली में संवाद की समस्या है। वे खिलाड़ियों के साथ संवाद स्थापित करने में दिलचस्पी नहीं रखते। जबकि पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के कमरे के दरवाजे हमेशा अपनी टीम के साथियों के लिए खुले रहते थे। 

पूर्व क्रिकेटर ने बताया कि टीम का कोई खिलाड़ी किसी भी समय धोनी के साथ वीडियो गेम खेल सकता था। उनके साथ खाना खा सकता था। लेकिन कोहली के साथ ऐसा नहीं है। पूर्व क्रिकेटर ने कहा कि रोहित शर्मा में बहुत हद तक धोनी जैसी खूबी है। रोहित साथी खिलाड़ियों को बाहर खाना खिलाने भी ले जाते हैं और खिलाड़ियों को जब जरूरत महसूस होती है, वे उनके साथ रहते हैं। 

खिलाड़ियों को बीच मझधार में छोड़ देते हैं कोहली 

विराट कोहली की आलोचना में रिपोर्ट में कहा गया है कि विराट कोहली अमूमन युवा खिलाड़ियों को बीच मझधार में छोड़ देते हैं। यह दावा खुद भारतीय टीम खिलाड़ी ने किया है। क्रिकेटर ने कहा है कि जब भी किसी युवा खिलाड़ी को अपने कप्तान की सबसे ज्यादा जरूरत महसूस होती है, वे किसी खिलाड़ी को हैंडल नहीं कर पाते।

रिपोर्ट के मुताबिक बतौर कप्तान विराट कोहली का बर्ताव तानाशाह की तरह है। लेकिन एडिलेड टेस्ट और खासकर ऑस्ट्रेलिया सीरीज में रहाणे की कप्तानी में जीत मिलने के बाद परिस्थियां बदल गई हैं। इंग्लैंड के खिलाफ सीरीज में जब कोहली भारतीय टीम में लौटे तब तक टीम के कई युवा खिलाड़ी निजी परफॉर्मेंस के बलबूते खुद को स्थापित कर चुके थे। 

कोहली की वनडे कप्तानी पर भी मंडरा रहा है खतरा 

रिपोर्ट के मुताबिक भले ही कोहली ने कप्तानी का बोझ कम करने के लिए टी ट्वेंटी की कप्तानी छोड़ी हो लेकिन उन्हें इस बात की भनक थी कि अगर भारतीय टीम वर्ल्ड कप में अच्छा प्रदर्शन नहीं करती है तो उन्हें सीमित ओवरों की कप्तानी से हटाया जा सकता है। 

2023 में होने वाले वर्ल्ड कप से पहले भारतीय टीम को टी ट्वेंटी के 20 द्विपक्षीय मुकाबले ही खेलने हैं। यही वजह है कि कोहली को टी ट्वेंटी कप्तानी छोड़ने में ज्यादा दिक्कत नहीं हुई। लेकिन बीसीसीआई के सूत्रों का कहना है कि इस बात की कोई गारंटी नहीं है कि विराट कोहली अगले एकदिवसीय वर्ल्ड कप तक टीम के कप्तान बने रहेंगे। 

रिपोर्ट्स के मुताबिक रोहित शर्मा का टी ट्वेंटी मुकाबलों में भारतीय टीम की कप्तानी करना लगभग तय है। उपकप्तान के लिए केएल राहुल, ऋषभ पंत और जसप्रीत बुमराह सबसे बड़े दावेदार हैं।