एक दूल्हा, एक मंडप, एक ही बार का सात फेरा और दो दुल्हनों का सुहाग, चंदू को मिलीं हंसीना और सुंदरी

छत्तीसगढ़ में अपनी दो प्रेमिकाओं से एक साथ शादी कर जगदलपुर के चंदू ने खींचा सबका ध्यान, कहा नहीं दूँगा किसी को धोखा

Updated: Jan 08, 2021, 04:21 AM IST

एक दूल्हा, एक मंडप, एक ही बार का सात फेरा और दो दुल्हनों का सुहाग, चंदू को मिलीं हंसीना और सुंदरी
Photo Courtesy: desh tv

रायपुर। एक प्रेमी और दो प्रेमिकाएं.. और फिर तीनों के बीच संबंधों का बंधन। सुनने में भले ही यह कहानी अव्यावहारिक लगे मगर है बिल्कुल सच्ची। जगदलपुर के रहनेवाले चंदू को एक साथ दो प्रेमिकाएं मिलीं- सुंदरी और हसीना। फिर तीनों ने एक ही मंडप में, एक ही दिन और एक बार के सात फेरे में एक होने का फैसला कर लिया। यानी एक साथ तीन दिल धड़क उठे और फिर साथ-साथ जीवन बिताने की आपसी रज़ामंदी से ब्याह कर लिया। किसी को किसी से शिकायत भी नहीं। यह शादी इसी साल 3 जनवरी को छत्तीसगढ़ के जगदलपुर में हुई। 24 वर्षीय चंदू मौर्य ने हसीना बघेल और सुंदरी कश्यप को अपनी अर्धांगिनी बनाया।

कहानी कुछ यूं घटी-  

जगदलपुर का रहनेवाला चंदू खेती का काम करता था। करीब तीन साल पहले वह टोकापल इलाके में बिजली का खंभा गाड़ने के लिए गया था, उसे वहां 21 साल की सुंदरी कश्यप मिली और दोनों में देखा-देखी हुई और एक ही नजर में दोनों एक दूसरे को दिल दे बैठे। फिर साथ की चाह में दोनों ने नया मोबाइल खरीदा और इश्क परवान चढ़ने लगा। कुछ दिन बाद उन्होंने तय किया कि वे दोनों एक दूसरे से शादी करेंगे।

दोनों के मन में शादी का सपना आकार ले ही रहा था कि एक साल बाद अचानक 20 वर्षीय हसीना बघेल की एंट्री हो गई। हसीना चंदू के गांव अपने रिश्तेदार के घर एक शादी में आई थी। इस शादी में चंदू भी पहुंचा था। यहां भी वही सीन चला, जो एक साल पहले खंभा गाड़ने के दौरान हुआ था। हसीना और चंदू की नजरें मिलीं और दोनों को प्यार हो गया। जब हसीना ने चंदू से अपने मोहब्बत का इजहार किया तो चंदू ने सारी सच्चाई बता दी। लेकिन अब समस्या सुंदरी थी और चंदू दुविधा में था।

चंदू को हसीना भी पसंद और सुंदरी भी। वह दोनों से प्यार करने लगा था और किसी को धोखा भी नहीं देना चाहता था। उसने सुंदरी से बात की और हसीना का साथ भी ना छोड़ा। यह प्रगाढ़ता ऐसी हुई कि हसीना और सुंदरी भी एकदूसरे से फोन पर शेयरिंग करने लगीं।

एक दिन हसीना ने चंदू के घर आकर रहना शुरू कर दिया। यह जानकारी मिलते ही सुंदरी भी चंदू के घर आ पहुंची। चंदू अब हसीना और सुंदरी दोनों के साथ लिव-इन पार्टनर बनकर रहने लगा। मगर यह बात गांव वालों को हज़म नहीं हो रही थी। परेशान होकर गांववालों के सामने चंदू ने दोनों से शादी कर लिया। इस शादी का गवाह पूरा गांव बना।

हालांकि इस शादी में हसीना के परिवार वाले तो शामिल हुए लेकिन सुंदरी कश्यप के परिवार को यह शादी नहीं जमी। इसलिए वो नहीं आए। सुंदरी का कहना है कि एक दिन ऐसा आएगा जब उसके परिजन भी उसके मोहब्बत को समझेंगे। चंदू, हसीना और सुंदरी तीनों एक साथ रहकर काफी खुश हैं और चंदू का कहना है कि मैं किसी को धोखा नहीं दूंगा। गांव में चंदू के पास दो एकड़ जमीन है जिसपर वह खेतीकर अपना जीवन यापन करता है।

चंदू की शादी सुर्खियों का विषय इसलिए बनी कि समाज और संविधान एक साथ दो या अधिक महिलाओं यानी बहुपत्नी रखने को मान्यता नहीं देता। लेकिन एक वयस्क कई लोगों के साथ आपसी रज़ामंदी से रह सकता है। हालांकि संपत्ति के अधिकार के सवाल पर चंदू को चुनाव करना ही पड़ेगा कि वो किसे अपना अधिकार देना चाहेगा।